नौकरी देने के नाम पर कुनिहार के एक युवक के साथ करीब 2,20,000 रुपए की धोखाधड़ी होने का मामला सामने आया है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार विनोद गर्ग ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई है कि उसके बेटे करण गर्ग ने मर्चैंट नेवी की ट्रेनिंग वर्ष 2018 में की थी। उसके बाद उसके बेटे ने बर्ड ब्लू नामक कंपनी में 1 साल नौकरी की। ट्रेनिंग के दौरान इसका संपर्क उत्तर प्रदेश निवासी अवनीश सिंह से आईएमए इंस्टीच्यूट में हुआ था जोकि उसके बेटे का सीनियर था।

वर्ष 2020 में लॉकडाऊन लगने के कारण उसका बेटा घर वापस आ गया। उसके बाद उसका अवनीश से नवम्बर व दिसम्बर, 2020 में फिर से संपर्क हुआ। अवनीश ने उसे कहा कि वह शिपिंग कार्पोरेशन ऑफ इंडिया में बतौर एजैंट काम कर रहा है। वह उसकी नौकरी वहां लगवा देगा। उसके उसने कागजात तैयार करने के लिए 20,000 रुपए मांगे। इस पर उसने उसके द्वारा दिए गए खाते में यह रकम भेज दी।

इसके बाद उसने उसके बेटे को एक ज्वाइनिंग लैटर भेजा, जिसमें उसके बेटे की नौकरी स्वर्ण स्वराज में लगी होनी बताई गई और 2,00,000 रुपए ज्वाइनिंग से पहले भेजने को कहा। इस पर उसने उसके खाते में आरटीजीएस द्वारा यह रकम भेज दी। इसके बाद से उसके द्वारा दिए गए मोबाइल नंबरों पर कई बार संपर्क करने की कोशिश की गई, लेकिन उसने फोन नहीं उठाया। व्हाट्सएप के माध्यम से वह उसे झूठे आश्वासन देता रहा। शिकायत में विनोद गर्ग ने आरोप लगाया है कि अवनीश ने नौकरी के नाम पर धोखाधड़ी की है। एएसपी अशोक वर्मा ने बताया कि पुलिस ने शिकायत के आधार पर मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।