शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर तथा वन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री राकेश पठानिया द्वारा 23 अपै्रल, 2022 को शिमला से जारी एक प्रेस वक्तव्य

शिक्षा मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर तथा वन, युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री राकेश पठानिया ने आज यहां जारी एक संयुक्त प्रेस वक्तव्य में कहा कि कांग्रेस नेता सुखविन्द्र सिंह सुक्खू केवल खबरों में बने रहने के लिए झूठे, भ्रामक और तथ्यहीन बयान देकर अफवाहें फैला रहे हैं।

मंत्रियों ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने पूरे देश में लोगों का विश्वास खो दिया है। उन्हांेने कहा कि प्रदेश के साथ-साथ देश में भी लोगों ने कांग्रेस को पूरी तरह से नकार दिया है। हिमाचल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह के निधन के बाद सभी कांग्रेसी नेता उनकी जगह लेने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं।

गोविन्द सिंह ठाकुर और राकेश पठानिया ने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस नेतृत्वविहीन, मुद्दावहीन और दिशाहीन पार्टी बन चुकी है और प्रदेश की जनता इस वर्ष नवम्बर में होने वाले आम चुनावों में कांग्रेस को मुहंतोड़ जवाब देगी। उन्होंने कांग्रेस नेताओं को याद दिलाया कि भाजपा विश्व का सबसे बड़ा राजनीतिक दल है और कांग्रेस केवल एक परिवार विशेष की पार्टी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेता दूसरों पर कीचड़ उछालने की बजाय अपना कुनबा सम्भालें।

मंत्रियों ने कहा कि सुखविन्द्र सिंह सुक्खू का रिमोट कन्ट्रोल से नियंत्रित होने वाले मुख्यमंत्री वाला आरोप पूरी तरह से बेबुनियाद है। उनका यह बयान आधारहीन और सत्य से कोसों दूर है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं, जिन्हें केन्द्रीय नेतृत्व का पूर्ण विश्वास और स्नेह प्राप्त है। पार्टी ने उनकी क्षमताओं पर विश्वास व्यक्त किया है और उनके नेतृत्व में राज्य प्रगति और समृद्धि के पथ पर आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोप भी निराधार और राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित हैं, क्योंकि वर्तमान सरकार के लगभग चार वर्ष और चार महीनों के कार्यकाल के दौरान प्रदेश का समग्र और सर्वांगीण विकास सुनिश्चित हुआ है और सरकार के विरूद्ध भ्रष्टाचार का एक भी मामला सामने नहीं आया है। दूसरी ओर कांग्रेस पार्टी के कार्यकाल में भ्रष्टाचार अपने चरम पर था और तत्कालीन सरकार के विरूद्ध लगभग हर दिन भ्रष्टाचार के मामले उजागर होते रहते थे।

गोविन्द सिंह ठाकुर और राकेश पठानिया ने कहा कि प्रदेश के कांग्रेस नेता एक दूसरे को पछाड़ते हुए वरिष्ठ नेतृत्व के सामने अपना वर्चस्व साबित करने की होड़ मंे लगे हैं। उन्होंने कहा कि आने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी के पास नीति, चरित्र और नेतृत्व कर सकने वाले चेहरे की कमी है जबकि भाजपा के पास केन्द्र और राज्य में सक्षम और कुशल नेतृत्व है। उन्होंने कांग्रेस नेता को चुनौती देते हुए कहा कि वे उस नेता का नाम बताएं जिनके नेतृत्व में कांग्रेस आने वाले चुनाव लड़ने जा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की स्थिति बिना दुल्हे की बारात जैसी है और कांग्रेस पार्टी में राज्य के लगभग हर जिले में अपना एक मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता कांग्रेस के नेताओं के झूठे वादों से भलीभांति परिचित है और उनके झूठे प्रचार से किसी भी तरह के बहकावे में आने वाली नहीं है।

मंत्रियों ने सुखविन्द्र सिंह सुक्खू को सलाह दी कि वे अपनी पार्टी पर ध्यान दें और भाजपा के बारे में चिन्तित होने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि पार्टी और पार्टी का सक्षम नेतृत्व अपने दम पर किसी भी स्थिति से निपटने में सक्षम है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता आने वाले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस नेताओं को आइना दिखाएगी, क्योंकि जनता केन्द्र और राज्य की डबल इंजन सरकार से मिलने वाले लाभों से भलीभांति परिचित है। प्रदेश की जनता चाहती है कि इन डबल इंजन सरकारों के माध्यम से राज्य में विकास निर्बाध रूप से जारी रहे।