कांगड़ा जिला के देहरा की ग्राम पंचायत हार में 28 वर्षीय विवाहिता योगिता दहेज़ की बलि चढ़ गई. मायके पक्ष का आरोप है कि ससुराल वालों ने जहरीला इंजेक्शन देकर उनकी बेटी को मार डाला. योगिता की दो साल पहले ही लव मैरिज हुई थी. पुलिस शव लेकर टांडा

मेडिकल कॉलेज पहुंची, जहां पोस्टमॉर्टम करवाया जाएगा. कांगड़ा जिले के तहत देहरा थाने के अन्तर्गत मृतिका योगिता के छोटे भाई शुभम पटियाल ने पुलिस को अपना बयान कलमबद्ध कराया. इसकी बड़ी बहन योगिता की शादी कांगड़ा जिले के

साहिल कश्यप से हुई थी. मृतिका योगिता के पिता रणवीर सिंह पटियाल व माता नरेश पटियाल ने पत्रकारों को बताया कि योगिता के पति साहिल ने दुबई जाने के लिये 6 लाख रुपयों की मांग की थी, लेकिन हम 6 लाख रूपये नहीं दे सके. यही वजह है कि उन्होंने योगिता को मार डाला

मृतका के भाई शुभम के अनुसार शादी के बाद से ही मेरी बहन को उसके पति, सास, ननद व ननदोई ने शारीरिक व मानसिक तौर पर तंग करना शुरू कर दिया था. हमें दीदी के मृत्यु की सूचना सात जून 2019 को मिली. मृत्यु की सूचना मिलते ही हम

उसके ससुराल हारमिटा पहुंचे. मृतिका योगिता के पति साहिल, सास सुशीला, ननद शिखा व ननदोई रिक्की पर शारीरिक व मानसिक तौर पर प्रताड़ित करने और दहेज की मांग को लेकर भारतीय दंड संहिता की धारा 304—B, 498-A के तहत मामला दर्ज किया गया है.

शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल देहरा में रखा गया था. मायके पक्ष के बहुत सारे लोग सिविल अस्पताल देहरा में इकट्ठा हो गए थे और शव को टांडा अस्पताल ले जाने से रोक रहे थे. मायका पक्ष का कहना था कि सभी आरोपियों को पहले गिरफ्तार किया जाए तभी शव को टांडा हॉस्पिटल के लिये ले जाने दिया जाएगा.

मौके पर पहुंच कर डीएसपी देहरा लालमन शर्मा ने लोगों को आश्वासन स्वासन दिया कि मृतिका का टांडा में पोस्टमार्टम होने से पहले सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. मायके पक्ष के लोगों ने डीएसपी लालमन शर्मा के साथ काफी बहसबाजी की और ASI सतीश कुमार के खिलाफ मुर्दाबाद के नारे भी लगाए.

मृतका के भाई शुभम पटियाल ने बताया कि यह इसकी बहन की मृत्यु के जानकारी हमें नहीं दी गई है. भाई ने कहा कि योगिता को कई फोन किए, लेकिन उसका फोन लगातार स्विच ऑफ आ रहा था. मुझे शक हुआ और मैं जब योगिता के घर पर पहुंचा तो देखा कि योगिता बिस्तर पर पड़ी हुई थी और मैंने योगिता के शरीर को छुआ तो शरीर ठंडा पड़ चुका था और बाहर बरामदे में सीढ़ी बनाई जा रही थी.

शुभम पटियाल ने बताया कि मायके पक्ष के सभी लोग इकट्ठा हुए और मृतिका के फोन को देखा तो पाया कि फोन बुरी तरह टूट चुका था. मृतका के भाई ने कहा कि मेरी बहन को उसकी सास सुशीला, पति साहिल, ननद शिखा व ननद के पति रिक्की ने कोई जहरीला इन्जेक्शन देकर की है.

डीएसपी देहरा लालमन शर्मा ने कहा कि इस केस में मृतका के पति, सास व ननद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. उन्होंने कहा कि आईपीसी की धारा 304बी, 498ए डोरी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है.

Desk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here