संजीव राणा ब्यूरो- भूमाफिया के अवैध कब्जों के बाद अब स्थानीय नागरिकों पर हमले किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं होंगे । जागो भारत जागो मंच के

संयोजक एडवोकेट अवनीश शर्मा व जनरल सैक्रेटरी कवि राज मिश्रा ने बुधवार को जारी प्रैस विज्ञप्ति में कहा है कि हमीरपुर शहर में सरकारी व गैर सरकारी

भूमि पर अवैध कब्जों का खुलासा होने के बाद जिस तरह तिलमिलाकर भूमाफिया ने सामाजिक कार्यकर्ता निशांत शर्मा पर हमला किया है ,वह किसी

भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बाहरी प्रांतों से अवैध कब्जों की कार्रवाई में लगे लोग यह ध्यान रखें कि अब यह मामला हद से गुजर चुका है और अब

जागो भारत जागो मंच ऐसे अवैध अतिक्रमणकारियों को शहर से खदेड़ कर दम लेगा ताकि शहर का अमन व चैन बना रहे। उन्होंने कहा कि बिहारी मजदूरों को

आगे करके आए रोज जिस गुंडागर्दी का तांडव स्थानीय नागरिकों को डराने के लिए भूमाफिया कर रहा है उसकी सरकार व प्रशासन को शिकायत की जाएगी ।

अगर सरकार व प्रशासन ने समय रहते इनके अवैध कब्जों को नहीं हटाया तो फिर मंच आदोलन करेगा । मंच ने कुछ सवाल करते हुए पूछा है कि एडीएम के

आवास के सामने जंगलात की भूमि का लैंड यूज बदलकर कब्जा किसने किया है और वन विभाग उस कब्जे को क्यों नहीं हटा रहा है।

यहां डंगे को भर कर जो स्थानीय लोगों का रास्ता रोका गया है उसका जिम्मेदार कौन हैं क्योंकि यहां पर परंपरागत पुराना रास्ता था । उसे सरकार

बहाल करवाए व कब्जे को तत्काल प्रभाव से छुड़ाए । बीडियो आफिस की दुकान जो मनु इलैक्ट्रिानिक के नाम पर अलाट हुई है । उस दुकान पर इस समय

किसका कब्जा है। किस व्यक्ति ने इस दुकान को अपने नाम करने का प्रार्थना पत्र बीडियो आफिस में दिया है। जिससे साफ पता चलता है कि इस दुकान का

मोटी रकम लेकर बेनामी सौदा किया गया है। बस अड्डे में जगननाथ को अलाट हुआ खोखा उसकी मौत के बाद किस व्यक्ति ने अपने नाम करवाया

और नगर परिषद ने किस कायदे कानून के तहत उस खोखे को सबलेट किया है और उस खोखे के आगे करीब पांच फुट फुटपाथ पर किसने अवैध कब्जा जमाया है।

नगर परिषद बताए व प्रशासन तत्काल प्रभाव से इस कब्जे को मुक्त करवाए। नगर परिषद की मुखिया व शहर में अवैध कब्जों के व्यापारियों के बीच क्या

सांठ गांठ है। मेडिकल कालेज में चल रही कैंटीन की सांझेदारी में क्या गड़बड़झाला है और इसका हफ्ता किसकी जेब में जाता है। भोटा चौक में

सरकारी भूमि पर लैंड यूज को चेंज करके रातों रात किस व्यक्ति ने ईमारत खड़ी की है और अब वहां नगर परिषद के कैंपस को कब्जाने की साजिश कौन

रच रहा है। नगर परिषद इस कब्जे से क्यों अनजान बनी बैठी है, नगर परिषद बताए।

मंच ने कहा कि कन्हैया राम के सरकारी अवैध कब्जे के स्थान पर बने पुराने ढांचे पर सरकार की आंखों में धूल झोंक कर किस पटवारी ने सरकार को गुमराह

करने की रिपोर्ट दी है। इसमें पटवारी का क्या लेन देन हुआ है जांच की जाए। बिजली की एलटी लाइन यहां पर रातों रात हटा कर दो मीटर पीछे किसने की

है। इसकी भी जांच की जाए। सबसे बड़ा सवाल यह है कि जिस सरकारी भूमि के नाजायज कब्जे पर बाहरी प्रांत के व्यक्ति ने कब्जा किया है ,उसका राजस्व

रिकार्ड व गिरदाबरी 1955 से चैक की जाए तो सारी स्थिति साफ हो जाएगी कि इस भूमि पर के दस्तावेज अवैध कब्जा करने के लिए एक साजिश के तहत

बनाए गए हैं। 1966,67 का राजस्व रिकार्ड बताता है कि इस भूमि पर कभी भी किसी के मालिकाना हक का दाखिलखारज ही नहीं हुआ है और यह भूमि

सरकार के नाम ही रही है तो ऐेसे में बाहरी प्रांत के व्यक्ति ने रातों रात इस भूमि पर कैसे कब्जा किया है।

(make money online) (amazone)  (flipkart) (live) (india tv live) (live news) (youtube)  (breaking news) (how to earn money online)  (maps)  (wheather) (translate) (youtube mp3)(news) (discovery) (pub g download free) (gmail) (youtube downloder)  (calculator) (facebook) (Wikipedia)  (analytics)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here