बिलासपुर के कर्मचारी दर के साये में अपना जीवन व्यतीत करें हैं। दरअसल यह मामला हिमाचल प्रदेश परिवहन निगम बिलासपुर का है।

जहां कार्यशाला भवन जर्जर  हो चुका है, तथा कभी भी हादसे का शिकार बन सकता है कार्याशाला भवन कई जगहों से पूरी तरह फट चुका है।

तथा छत पर प्लास्टर कभी भी टूट कर गिर सकता है, इस भवन में काम करने वाले कर्मचारियों में छत का प्लास्टर गिरने पर दहशत का माहौल बन जाता है।

लेकिन निर्वहन करने के लिए पदाधिकारी एक कर्मी को अपनी जान को जोखिम में डालकर कार्यों का निपटारा करने में मजबूर है, कार्यशाला की छत इतनी टूट चुकी है ,कि बरसात के पानी में बरसात के दिनों में पानी अंदर तक पहुंच जाता है।

और अधिकारियों कर्मियों का बैठना बहुत मुश्किल हो गया है।

सूत्रों ने बताया कि परिवहन मंत्री से एक कार्यालय की मरम्मत कराने के लिए कई बार आग्रह दिए जा चुके हैं। और स्थानीय विधायक को भी इसके बारे में अवगत कराया गया है।

लेकिन इन सहमे हुए कर्मचारियों की पुकार किसी ने आज दिन तक नहीं सुनी उन्होंने कहा कि ना तो कोई राजनीतिक नेता और ना कोई सरकारी कर्मचारी इस मुसीबत को देखने अभी तक पहुंचा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here