होशियार के कमल खरीदने से भाजपा कार्यकर्ता निराश, बिका हुआ कमल नहीं खिलेगा : मुख्यमंत्री

Oplus_0
देहरा। मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि देहरा के पूर्व निर्दलीय विधायक होशियार सिंह ने कमल खरीदा है और बिका हुआ कमल कभी नहीं खिलता। भाजपा के ईमानदार कार्यकर्ता भी बिकाऊ पूर्व विधायक होशियार सिंह को टिकट मिलने से खुश नहीं हैं। क्योंकि जिस कमल के निशान पर होशियार चुनाव लड़ रहे हैं वह भाजपा कार्यकर्ताओं के खून पसीने से सींचा हुआ नहीं है। मेरी भाजपा कार्यकर्ताओं से अपील है कि लोकतंत्र को बचाने के लिए वे भी पार्टी विचारधारा से ऊपर उठकर कांग्रेस उम्मीदवार को वोट दें। क्योंकि यह चुनाव कांग्रेस व भाजपा के बीच नहीं बल्कि कांग्रेस और बिके हुए विधायक के बीच है।
मुख्यमंत्री ने ये बातें चपलाह, चनौर, कनोल, बड्डल व बेह डोंटा में कांग्रेस उम्मीदवार कमलेश ठाकुर के पक्ष में चुनाव प्रचार के दौरान कहीं। उन्होंने कहा कि 15 महीने पहले देहरा के लोगों ने 5 साल के लिए विधायक चुनकर भेजा था। आपने जब वोट दिया था तो यह नहीं सोचा कि कांग्रेस की सरकार बनेगी या भाजपा की। आपने आजाद विधायक चुनकर भेजा था, वह किसी भी सरकार से काम करवा सकते थे। लेकिन उन्होंने कांग्रेस सरकार बनने के बाद अपने ही काम करवाये, जनता के नहीं। वह 14 महीने में ही भाजपा की राजनीतिक मंडी में बिक गए। उनके इस्तीफ़ा देने पर स्पीकर ने पूछा कि आपने इस्तीफा क्यों दिया, अगर आपके काम नहीं हो रहे थे तो भाजपा के साथ बैठ जाते। वह सिर्फ यही कहते रहे  कि इस्तीफा मंजूर कर लो।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बिकाऊ विधायक अब इस्तीफा देकर भाजपा टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं, गलती से जीत भी गए तो भी उनके काम कैसे होंगे, क्योंकि प्रदेश में साढ़े तीन साल तक कांग्रेस की पूर्ण बहुमत की सरकार है। इसलिए कांग्रेस उम्मीदवार कमलेश ठाकुर को जिताकर भेजें, देहरा के विकास की कोई कमी नहीं रहेगी। मैंने 6 महीने पहले देहरा में कहा था कि देहरा मेरा है। इसका उदाहरण भी देखने को मिल रहा है। देहरा को एसपी जिला बना दिया है, एसई पीडब्ल्यूडी का दफ्तर खोला, बनखंडी में 680 करोड़ रुपये की लागत से जूलॉजिकल पार्क बन रहा है। जूलॉजिकल पार्क में 2000 युवाओं को रोजगार मिलेगा। अन्य छोटे-छोटे कामों का कोई हिसाब ही नहीं है।
ठाकुर सुखविंदर सिंह ने कहा कि हमारी सरकार ने कर्मचारियों को ओपीएस दी, जिन कर्मचारियों को 2700 रुपये पेंशन मिल रही थी, उन्हें 27000 पेंशन मिल रही है। महिलाओं को 1500 रुपये मासिक पेंशन दे रहे हैं। कमलेश तुआडी ध्याण है, परौने दा ख्याल रखनो। कमलेशा जो वोट दींगे की नी। होम मिनिस्टर दी कितनी पावर होंदी तुआंजो पता ही है। इस करी ने कमलेश ठाकुर जितानी है, कम्मे दी कमी नी रहणी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देहरा की जनता एक साल बाद विकास कार्यों में अंतर देखेगी। हमने देहरा के विकास को लेकर योजनाएं बनानी शुरू कर दी हैं। आपको खुद फर्क नजर आएगा कि मेरे ‘देहरा मेरा’ कहने के बाद कितने विकास कार्य हुए हैं। अभी देहरा में बहुत कुछ होना बाकि है, अनेक और दफ्तर भी खुलेंगे। मुख्यमंत्री का एक कार्यालय यहां भी खोला जाएगा।
जनता के चुने विधायक होशियार ने अपना ईमान बेचा। वह सच्चे जनसेवक नहीं हैं, उन्होंने भाजपा के सामान से भरे अटैची को तरजीह दी, उन्हें कांग्रेस सरकार का सम्मान नहीं चाहिए था। मैंने कभी किसी विधायक के काम को इंकार नहीं किया। आजाद विधायकों के इस्तीफे देने की घटना हिमाचल के इतिहास में लंबे समय तक याद रखी जायेगी। चूंकि निर्दलीय विधायक जनता के कामों, सड़कों के निर्माण या अन्य कार्यों के लिए धरने पर नहीं बैठे। उन्होंने इस्तीफा स्वीकार कराने के लिए विधानसभा के बाहर धरना दिया। यह भी पहली बार हुआ कि कोई निर्दलीय इस्तीफा मंजूर कराने के लिए धरने पर बैठे। क्योंकि, उन्हें भाजपा के सामान से भरे अटैची की दूसरी क़िस्त इस्तीफा मंजूर होने के बाद ही मिलनी थी। पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा का ऑपरेशन लोटस फेल हो चुका। जयराम ठाकुर को झूठ बोलने की आदत लग गई है।
उन्होंने कहा कि देहरा के बिकाऊ विधायक इस्तीफे के बाद दोबारा विधायक बनने के लिए ही चुनाव लड़ रहे हैं। जब विधायक ही बनना था तो इस्तीफा क्यों दिया। उन्होंने जनता की भावनाओं को बेचा है। उन्हें कभी माफ नहीं करना। दस जुलाई को आपके पास बिकाऊ विधायक को सबक सिखाने का मौका है, इसलिए कांग्रेस उम्मीदवार कमलेश ठाकुर को वोट दें। होशियार गलती से जीत गए तो वह फिर आपको धोखा देंगे। देहरा में कांग्रेस विधायक बनने का प्रभाव इतना होगा कि साथ लगते जसवां परागपुर व ज्वालामुखी विधानसभा क्षेत्र का भी कायाकल्प हो जाएगा। चूंकि, कमलेश मेरी होम मिनिस्टर भी हैं, आप सब जानते हैं कि घरवाली की कितनी पावर होती है। मैं बेह डोंटा वालों का बेटा, भाई और कमलेश आपकी बहू भी है, इसलिए हमारा साथ देना है।
इस दौरान देहरा विधानसभा क्षेत्र के चुनाव प्रभारी व कृषि मंत्री चौधरी चंद्र कुमार, गगरेट से विधायक राकेश कालिया, कांगड़ा जिलाध्यक्ष करण सिंह पठानिया, पूर्व विधायक योगराज, चेयरमैन हिमाचल प्रदेश भवन एवं सन्निर्माण कामगार बोर्ड नरदेव कंवर, जसवां परागपुर से पूर्व उम्मीदवार सुरेंद्र मनकोटिया, ब्लॉक अध्यक्ष पुष्पिंदर ठाकुर, विक्रम शर्मा डिक्की, राजेंद्र शर्मा, निशांत शर्मा इत्यादि मौजूद रहे।