चंपावत उप-चुनाव: रिकॉर्ड मतों से जीते CM धामी; कांग्रेस की जमानत जब्त

उत्तराखंड की चंपावत विधानसभा सीट पर उप-चुनाव के नतीजे आ गए हैं. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रिकॉर्ड मतों से जीत हासिल की है. पुष्कर सिंह धामी ने कांग्रेस की उम्मीदवार निर्मला गहतोड़ी को रिकॉर्ड 54,121 मतों से हरा दिया है. इस चुनाव में कांग्रेस की उम्मीदवार निर्मला गहतोड़ी की जमानत जब्त हो गई है. बता दें कि पुष्कर सिंह धामी को उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बनने के लिए ये चुनाव जीतना जरूरी था. उन्होंने निर्मल गहतोड़ी को हराकर ये साफ कर दिया है कि वो मुख्यमंत्री बने रहेंगे.

पुष्कर सिंह धामी की जीत, खुश हुए बीजेपी कार्यकर्ता

पुष्कर सिंह धामी की जीत से बीजेपी कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह है. चंपावत में पुष्कर सिंह धामी की जीत के बाद बीजेपी कार्यकर्ता जमकर खुशी मना रहे हैं. पुष्कर सिंह धामी ने ये चुनाव रिकॉर्ड 54,121 मतों से जीता है. 13 चरण की कुल काउंटिंग में पुष्कर सिंह धामी को कुल 57268 वोट हासिल हुए. वहीं कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी को महज 3147 वोटों से संतोष करना पड़ा. वह अपनी जमानत तक ना बचा सकीं. सपा प्रत्याशी मनोज कुमार को 409 वोट मिले तो निर्दलीय प्रत्याशी हिमांशु गरकोटी को 399 और नोटा को 372 मत प्राप्त हुए.

बता दें कि इस सीट पर जीत दर्ज करने के लिए बीजेपी ने पूरी ताकत झोंक दी थी. यहां तक कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी पुष्कर सिंह धामी के लिए प्रचार किया था. वहीं, कांग्रेस की निर्मला गहतोड़ी के लिए कांग्रेस के बड़े नेता पूरी ताकत से कभी चुनाव प्रचार में उतरे ही नहीं. और अब नतीजे सामने आ चुके हैं.

उत्तराखंड के इतिहास की सबसे बड़ी जीत

सीएम पुष्कर धामी ने 54,121 वोटों से चुनाव जीत कर उत्तराखंड के इतिहास की सबसे बड़ी जीत दर्ज की है. इससे पहले विजय बहुगुणा सितारगंज से 39954 वोट से जीते थे. उन्होंने 2012 के सितारंगज में हुए उपचुनाव में प्रकाश पंत को 39,954 वोटों से हराया था. तो हरीश रावत 20 हजार वोट से चुनाव जीते थे.

विधानसभा चुनाव में हार गए थे धामी

गौरतलब है कि बीजेपी ने पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ा था. इसमें बीजेपी को जीत का सामना करना पड़ा था. हालांकि, धामी खुद खटीमा से चुनाव हार गए थे. इसके बावजूद पार्टी ने पुष्कर सिंह धामी को सीएम बनाया. ऐसे में अब वे चंपावत विधानसभा सीट से उपचुनाव में मैदान में उतरे थे. इस सीट पर 31 मई को वोटिंग हुई थी.