मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर बोले, पुलिस भर्ती पर राजनीति चमका रही कांग्रेस।

प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने साफ कहा है कि पेपर लीक के मामले में निष्पक्ष जांच के लिए ही केस सीबीआई को दिया गया है। इस पूरे मामले में कांग्रेस सिर्फ राजनीति कर रही है। पहले विपक्ष कहता था कि जांच सीबीआई से होनी चाहिए। हमने वैसे ही ऑर्डर कर दिए। अब कह रहा है कि डीजीपी इस्तीफा दें, मुख्यमंत्री इस्तीफा दें। इसलिए इस बहस में पडऩे से कुछ नहीं होगा। कभी डिमांड आ रही है कि सिटिंग जज से यह शिमला जांच करवाई जाए। यह सब विरोध के रूप में विरोध करने के लिए हो रहा है।

वही मीडिया के सवाल पर उन्होंने कहा कि उनकी सरकार पेपर लीक के मामले में न्याय करने की मंशा रखती है, जिसने भी गलत किया हो वह अंदर होगा। चाहे वह पुलिस के ही अफसर क्यों न हो। अभी सारे मामले में सीबीआई तय करेगी कि आगे जांच किस तरह से होगी और उस जांच का दायरा क्या होगा, जैसे ही सीबीआई इस केस को अपने हाथ में लेगीए एसआईटी सारा रिकार्ड उनको सौंप देगी।

एक तरफ सरकार ने पेपर लीक का मामला सीबीआई को दे दिया है दूसरी तरफ पुलिस मुख्यालय में इस भर्ती की लिखित परीक्षा दोबारा करने के लिए तैयारियां चल रही है। राज्य सरकार ने लिखित परीक्षा के लिए बनाई गई कमेटी का मुखिया एडीजीपी अभिषेक त्रिवेदी को बनाया है और उन्हें नए सदस्य चुनने के लिए फ्री हैंड दे दिया है मुख्य सचिव राम सुभाग सिंह ने बताया कि लिखित परीक्षा बहुत जल्द हो जाएगी और भर्ती कमेटी के नए मुखिया यह सुनिश्चित करेंगे कि दोबारा इस तरह का प्रकरण न हो।