कांग्रेस नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी झूठे मामलें बनाकर उनके खिलाफ जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही सरकार।

शिमला,12 जून अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय निरुपम ने केंद्र की मोदी सरकार पर आरोप लगाया है कि वह कांग्रेस नेताओं सोनिया गांधी, राहुल गांधी झूठे मामलें बनाकर उनके खिलाफ जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है।उन्होंन कहा कि मोदी सरकार राजनैतिक षडयंत्र के तहत उनके नेताओं को निशाना बना रही है।यह सब भाजपा की कांग्रेस के नेताओं के प्रति उनकी बौखलाहट है।कांग्रेस इसे कभी स्वीकार नहीं करेगी।
आज प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए संजय निरुपम ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी को ईडी के समन को पूरी तरह राजनीति में प्रेरित बताते हुए कहा कि असल मे राहुल गांधी भाजपा को बहुत बड़ी चुनौती है।उन्होंने कहा कि कांग्रेस की भारत जोड़ो पदयात्रा अभियान से भाजपा बोखलाहट में है।देश की गम्भीर समस्याओं से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए भाजपा लोगों को भर्मित करती रही है।उन्होंने कहा कि उदयपुर में कांग्रेस के चिंतित शिविर में जब देश जोड़ो पदयात्रा का फैसला हुआ तो उसके दूसरे दिन ही उनके नेताओं को ईडी के समन आना पूरी तरहउनके नेताओं के खिलाफ एक रजनीतिक षडयंत्र है।
निरुपम ने कहा कि केंद्र सरकार देश मे ईडी, इनकम टैक्स, सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है।जब भी देश मे चुनाव का समय आता है तो नेताओं या उनके करीबियों के घर इनकी छापा मारी शुरू हो जाती है।उन्होंने कहा कि पिछले 8 सालों में ईडी ने 11000 से अधिक मामलें रजिस्टर्ड किये और केवल 7,8 मामलों में ही दोषी पाए गए।
निरुपम ने कहा कि आज देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह तहस नहस हो गई है।उन्होंने कहा कि नोटबन्दी और जीएसटी से देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ गई है।
उन्होंने कहा कि आज भारत कीआर्थिक स्थिति श्रीलंका से भिन्न नही है।उन्होंने कहा कि पिछले दो सालों में 22 करोड़ से अधिक ऐसे बेरोजगार युवा है जिन्होंने नोकरी के लिये अपना नाम तक सूचीबद्ध नही करवाया।उन्होंने कहा कि इन युवाओ को अब सरकार पर कोई भरोसा नही रहा है।
संजय निरुपम ने कहा कि आज देश मे भाजपा धव्रीकरण की राजनीति कर रही है।देश में धर्म के नाम पर हिंसा हो रही है।देश का लोकतंत्र खतरे में पड़ता जा रहा है।उन्होंने कहा कि अपनी विफ़ललताओं को छुपाने के लिये लोगों में उलजुलूल बाते कर आपसी सौहार्द बिगाड़ने में लगी है।