प्रदेश के कोरोना महामारी जानलेवा बनती जा रही है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के केस एक लाख के करीब पहुंच गए हैं। प्रदेश में कोरोनावायरस के अब तक 93 हजार 889 मामले सामने आ चुके हैं। 16 हजार 098 एक्टिव केस हैं। मरीजों के रिकवरी रेट में भी हर दिन गिरावट आ रही है। बुधवार काे प्रदेश में काेराेना का रिकवरी रेट गिरकर 80% पहुंच गया। 76 हजार से ज्यादा मरीज स्वस्थ हुए हैं और 1407 मरीजों की मौत हुई है।

जिला मंडी के उपमंडल जोगेंद्रनगर में परिवार के मुखिया की कोरोना से हुई मौत के बाद उनकी पत्नी की भी मौत हो गई। 10 दिन बाद टांडा मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में उपाचाराधीन पत्नी ने भी दम तोड़ दिया है। नगर परिषद जोगेंद्रनगर के वार्ड चार समलोट निवासी मृतका के पति आयुर्वेद विभाग में कार्यरत थे। दोनों को करीब तीन सप्ताह पहले जिला कांगड़ा के टांडा अस्पताल में कोरोना वार्ड में दाखिल किया गया था।

बल्ह घाटी की कुम्मी पंचायत में कोरोना ने 5 दिन में दो सगे भाइयों की सांसें छीन ली। पेशे से दुकानदार 62 वर्षीय लाल सिंह कुछ दिन पहले कोरोना संक्रमण की चपेट में आ गए थे। उन्हें उपचार के लिए नेरचौक मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया था। वहां 24 अप्रैल देर शाम उनकी मौत हो गई थी। 59 वर्षीय छोटा भाई शिवलाल भी संक्रमित हो गया। गुरुवार सुबह उसकी भी मौत हो गई। दो भाइयों की दुखद मौत से गांव में मातम का आलम है।