देश की सबसे तेज और सस्ती ‘नमो भारत ट्रेन’ को मिली हरी झंडी, जानें इसकी खूबियां

Namo Bharat Rapit Rail: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Naredra Modi) ने शुक्रवार 20 अक्टूबर को देशवासियों को एक बड़ा तोहफा दिया. उन्होंने देश की पहली रैपिड रेल (Rapid Rail) नमो भारत (Namo Bharat Train) को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. यह ट्रेन साहिबाबाद से दुहाई के बीच 17 किलोमीटर का सफर तय करेगी. ट्रेन की टाइमिंग सुबह 6 बजे से रात 11 बजे तक रहेगी. जो अपने अंतराल पर चलती रहेंगी. खास बात यह है कि यह देश की पहली सबसे तेज और सस्ती ट्रेन बताई जा रही है. जो अपने यात्रियों ने ना सिर्फ कम वक्त में गंतव्य तक पहुंचाएगी बल्कि इसके लिए किराया भी काफी कम होगा. आइए जानते हैं देश की पहली नमो भारत ट्रेन की खूबियां और इस ट्रेन से किन लोगों को मिलेगा लाभ.

वंदेभारत ट्रेन की सफलता पूरा देश देख रहा है. अपनी तरह की लग्जरी ट्रेनों में से एक वंदे भारत ने देश के तकरीबन हर राज्य में अपनी आमद दर्ज करा ली है. इसके फेरे से लेकर इसकी सुविधाएं रेल यात्रियों को बहुत पसंद आ रही हैं. इसके साथ ही लंबे समय से एक ऐसी ट्रेन की भी मांग की जा रही थी, जो कम वक्त में कम दूरी वालों के लिए चलाई जाए. नमो भारत रैपिड रेल इसी उम्मीद और मांग पर खरी उतरी है. इस रेल को पीएम मोदी ने खुद हरी झंडी दिखाकर रवाना किया है.

 

ये है नमो भारत रैपिड रेल की खासियत
रफ्तार में दमदारः नमो भारत रैपिड रेल की बात करें तो सबसे पहले जो बात जहन में आती है वो है इसकी रफ्तार यानी स्पीड. स्पीड के मामले में ये ट्रेन जबरदस्त है. इसे देश की सबसे तेज ट्रेनों में शुमार किया गया है. इसकी अधिकतम रफ्तार 180 किमी प्रति घंटा बताई जा रही है. हालांकि फिलहाल इसे 160 किमी प्रति घंटे से दौड़ाया जाएगा.

वहीं इस ट्रेन की औसत गति की बात की जाए तो ये 100 किलोमीटर प्रति घंटा रहेगी. बता दें कि वंदे भारत की स्पीड 130 किमी प्रति घंटा है जबकि नमो भारत की रफ्तार 180 तक हो सकती है. ऐसे में इसे देश की सबसे फास्ट ट्रेन बताया जा रहा है.

किराया भी काफी कम: नमो भारत की रफ्तार के बाद इसके किराए की बात की जाए तो ये भी अन्य ट्रेनों के मुकाबले काफी कम रखा गया है. यानी आपको अपनी मंजिल तक पहुंचाने के लिए नमो भारत ट्रेन पर ज्यादा खर्च भी नहीं करना होगा. इस ट्रेन में दो तरह के कोच लगे हैं. पहला स्टैंडर्ड और दूसरा प्रीमियम. जैसा की नाम से ही पता चलता है स्टैंडर्ड और प्रीमियम के किराए में अंतर होगा. स्टैंडर्ड कोच में सफर करने के लिए यात्रियों को 20 से लेकर 50 रुपए तक खर्च करने होंगे. ये दूरी पर तय होगा. इसके अलावा प्रीमियम कोच में सफर करने वालों को 40 से 100 रुपए तक का किराया यात्रियों को देना होगा. अब आप अंदाजा लगा सकते हैं कि कुछ मिनटों में लंबी दूरी के लिए आपकी चेब से कितना कम किराया वसूला जाएगा.

एक घंटे से भी कम दिल्ली-मेरठ का सफर
मेरठ से दिल्ली-एनसीआर में काम के लिए कई लोग आते हैं. ऐसे में नमो भारत ट्रेन उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं होगी. क्योंकि आमतौर पर वीकेंड पर अपने घर जाते हैं या फिर जो रोजाना ट्रेवल करते हैं उन्होंने डेढ़ से दो घंटे का वक्त लगता है अपने पर्सनल व्हीकल से जबकि नमो भारत उन्हें महज 55 मिनट में ये दूरी तय करने में मदद करेगी. यानी एक घंटे से भी कम समय में लोग रोजाना आसानी से ट्रेवल कर सकेंगे. इससे समय और धन दोनों की बच होगी. हालांकि दिल्ली-मेरठ के बीच नमो भारत को चलने में अभी एक वर्ष का वक्त लगेगा. इसके 2024 के अंत या फिर 2025 तक चलने की उम्मीद है.

नमो भारत में मिलेंगी ये सुविधाएं
– वाईफाई इस्तेमाल कर सकेंगे
– ट्रेन की सीटें काफी आरामदायक होंगी, किसी लग्जरी ट्रेन की तरह
– प्रीमियम कोच में मिलेगी फूड डिस्पेंडिंग मशीन यूज करने की सुविधा
– मेट्रो ट्रेनों की तरह यहां भी यात्रियों के लिए ऑडियो और वीडियो अनाउंसमेंट
– टेम्पर्ड प्रूफ और डबल ग्लेज्ड शीशों के जरिए दिखेगा बाहर का नजारा
– महिलाओं के लिए आरक्षित कोच की भी सुविधा
– दिव्यांगों के लिए भी खास तरह की सीटों का अरेंजमेंट किया गया है

रोजाना 8 लाख से ज्यादा यात्री करेंगे सफर
नमो भारत ट्रेन की शुरुआत के साथ ही ये अंदाजा लगाया जा रहा है कि, इसके पूरे कॉरिडोर के पूरा हो जाने के बाद हर दिन इन ट्रेनों के जरिए 8 लाख से ज्यादा लोग सफर कर सकेंगे. खास बात यह है कि इस ट्रेन की शुरुआत के साथ ही हर साल ढ़ाई लाख टन कार्बन के उत्सर्जन कटौती में भी मदद मिलेगी.