गोबिंद सागर झील की मोटरबोट में सवार जगराओं लुधियाना निवासी चमकौर सिंह ने अपनी दो बच्चियों को झील में फेंक दिया. उसी मोटर बोट में सवार एक स्थानीय युवक सुनील कुमार ने अपनी जान पर खेलकर झील में डूब रही दोनों बच्चियों को सुरक्षित बाहर निकाला.

मौके पर मौजूद स्थानीय लोगों ने पिता की पिटाई करनी शुरू कर दी. इस पर दोनों मासूम बेटियों का दर्द छलका और उन्होंने लोगों से अपील की कि प्लीज मेरे पापा को मत मारो.

जानकारी के मुताबिक पंजाब के जगराओं के पास एक गांव का परिवार शनिवार को बाबा बालक नाथ मंदिर दियोटसिद्ध में माथा टेकने पहुंचा था. शनिवार को ही यह परिवार बाबा बालक नाथ मंदिर में माथा टेककर लठयाणी कस्बे से झील के रास्ते

लौट रहा था. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार मोटर बोट जब झील के बीच में थी, तो इस व्यक्ति ने अचानक पहले अपनी 12 साल की बेटी हरमन को पानी में धक्का दे दिया और साथ ही 8 साल की दूसरी बेटी को भी झील में धकेल दिया. इसी मोटर बोट में

सवार स्थानीय निवासी सुनील कुमार पुत्र जगन्नाथ ने झील में कूदकर दोनों बच्चियों को सुरक्षित बचा लिया. आरोपी अपने बेटे जयदीप को भी पानी में फेंकने की फिराक में था, लेकिन उसके साथ नाव में सवार साथियों ने उसे पकड़ लिया.

बताया जा रहा है, आरोपी की लुधियाना और जगराओं में दो दूध की डेयरी है. वह लुधियाना से पत्नी सर्वजीत कौर समेत तीन बच्चों के अलावा भाई भाभी और उनके दो बच्चों के साथ लेकर आया हुआ था.

बच्चियों की जान बचाने वाले जांबाज युवक सुनील कुमार ने बताया कि मोटर बोट में लाइफ़ जैकेट पड़ी हुई थी जैसे ही इस व्यक्ति ने बच्चियों को पानी में फेंका उसने लाइफ जैकेट के सहारे उन्हें बचा लिया इससे पहले भी इस युवक द्वारा कई लोगों को झील में डूबने से बचाया गया है।

Desk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here