सुरेंद्र ठाकुर एस एम न्यूज़ ब्यूरो चम्बा-जनजातीय क्षेत्र पांगी में वन विभाग इन दिनों सवालों के घेरे में है। वन विभाग 49 लाख के अलग-2 तीन टेंडर करवाने जा रही है।सवाल तो उठेंगे ही, डी एफ ओ पांगी वन खंड किलाड़ द्वारा 31-01-2020 की अखबार दिव्या हिमाचल में टेंडर निविदा विज्ञापित की गई है।

बता दें कि 2018-303-5 शमशी कुल्लू में पांगी भवन का निर्माण जिसकी अनुमानित राशि 49,99817 दर्शाई गई है। 2013-302-14 निरीक्षण हट फिन्डरु का निर्माण जिसकी अनुमानित राशि 49,99900 दर्शाई गई है। वहीं 2013-302-16 पठानकोट भवन के अतिरिक्त कमरे का निर्माण जिसकी अनुमानित राशि 49,16817 दर्शाई गई है। उपरोक्त तीनों कार्यो की टेंडर फॉर्म खरीदने की तिथि 31-01-2020 से 07-02-2020 शाम पांच बजे तक निर्धारित की गई है और डी एफ ओ कार्यलय पांगी में निविदा प्राप्त करने की अंतिम तिथि 10-02-2020 दी गई है।

सबसे बड़ी बात यह है कि डी एफ ओ पांगी द्वारा सर्कुलर दिनांक 18-08-2017 जो कि पीसीसी फोरेस्ट हि. प्र. सरकार और सर्कुलर दिनांक 12-06-2017 अतिरिक्त मुख्य सचिव फोरेस्ट हि. प्र. और वित्त नियम 2009 को नजर अंदाज किया गया है। इससे साफ होता है कि वन विभाग अपने चहेतों को लाभ पहुंचाने के नियत उपरोक्त कार्यों की निविदा बिना ई टेंडर के विज्ञापित किये हैं।जबकि उपरोक्त सर्कुलर और वित्त नियम 2009 के अनुसार पांच लाख से अधिक राशि वाले कार्यों की वेबसाइट पर विज्ञापित करना जरुरी है और कम से कम तीन सप्ताह का समय दिया जाना जरूरी है। ताकि सरकारी कार्यों में कुशलता और पारदर्शिता बनी रहे और अत्यधिक ठेकेदार बोली में भाग ले सके जिससे विभाग को बोली में अधिक लाभ हो।

पांगी वन विभाग शायद यह भूल गया कि लोनिवि के अब टेंडर ऑनलाइन हो रहे हैं अगर लोनिवि ऑनलाइन टेंडर करवा सकता है तो वन विभाग क्यों नहीं करवा रहा है। जबकि पांगी घाटी में सड़कें बन्द पड़ी है और कार्य करने का समय 15 अप्रैल के बाद ही शुरू होता है।लोनिवि पांगी द्वारा 2018 से पांच लाख से ऊपर राशि वाले टेंडर ऑनलाइन डाले जाते हैं। डी एफ ओ पांगी ने उपरोक्त सर्कुलर और वित्त नियम 2009 के विरोध में टेंडर डाले हैं। प्रदेश सरकार और विभाग उच्चाधिकारी इन टेंडरों की विभागीय जांच करें। इसके अलावा विभाग द्वारा पांगी में जितने भी कार्य अन्य जगह घाटी में बिना ई ट्रेन्डिंग के करवाये जा रहे हैं जिसमें लाखों का बजट लग रहा है।

Leave a Reply