हिमाचल में पांच से 55 रुपये तक महंगी हुई अंग्रेजी शराब।

हिमाचल प्रदेश में महंगाई आसमान छू रही है। हिमाचल प्रदेश में अंग्रेजी शराब पांच से 55 रुपये तक महंगी हो गई है। नई आबकारी नीति के तहत चार फीसदी नवीनीकरण फीस बढ़ने से दामों में बढ़ोतरी हुई है। वहीं, शराब की दुकानों में तय दामों से अधिक वसूली पर ग्राहक अधिकारियों से शिकायत भी कर सकते हैं। वर्ष 2022-23 के दौरान 2,131 करोड़ रुपये के राजस्व प्राप्ति की परिकल्पना की गई है जो वित्त वर्ष 2021-22 से 264 करोड़ रुपये अधिक है। वित्तीय वर्ष 2022-23 में राज्य में प्रति इकाई चार प्रतिशत नवीनीकरण शुल्क पर खुदरा आबकारी ठेकों का नवीनीकरण किया गया है।

आपको बता दें कि मार्च 2022 में मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर की अध्यक्षता में वर्ष 2022-23 के लिए आबकारी नीति को मंजूर किया गया था। इसके तहत देसी शराब 16 फीसदी सस्ती की गई है। इसकी लाइसेंस फीस को सरकार ने कम किया है। पड़ोसी राज्यों से कम दाम तय कर सरकार ने प्रदेश में देसी शराब की तस्करी पर रोक लगाने का प्रयास किया है। इस वर्ष शराब के ठेके नीलाम करने के बजाय नवीनीकरण के माध्यम से दिए गए हैं।

वहीं सरकार ने कर एवं आबकारी विभाग का वर्ष 2022-23 के लिए टारगेट 12 फीसदी बढ़ा दिया है। इस टारगेट को प्राप्त करने के लिए विभाग ने लाइसेंस फीस सहित कई एक्साइज ड्यूटियों में बढ़ोतरी की है। इसके चलते ही प्रदेश में शराब के दामों में बढ़ोतरी हुई है।

वहीं, अब नई आबकारी नीति के तहत शराब ठेके से कोई भी व्यक्ति शराब की अधिकतम चार, बीयर की 24 बोतलें ले जा सकता है। इन्हें अपनी गाड़ी में भी ग्राहक ले जा सकते हैं।