95 साल की उम्र में भी लाजो देवी भी है आत्मनिर्भर ,जानिये कैसे।

बिलासपुर घुमारवीं:17 मई 2022 उपमंडल घुमारवीं की ग्राम पंचायत मोरसिधी के अंतर्गत गांव मसधाण की लालों देवी 95 साल की होने पर भी दिनचर्या के सभी कार्य खुद करती है ‌। उनके स्वास्थ्य जीवन की बात करें तो उनका स्वास्थ्य बिल्कुल तंदरुस्त है। धार्मिक आस्था में लग्न हर रोज भगवान शिवशंकर, गणेश, पाठ में मग्न रहती हैं।लालों देवी पशुओं के लिए हर रोज़ करीब डेढ़ किलोमीटर दूरी से पशुओं के लिए घास अभी भी काटकर लाती है। अनेक प्रकार के घर के कामों में व्यस्त रहतीं हैं।

जहां तक लालों देवी के जीवन की बात है उनका जन्म जिला बिलासपुर, तहसील घुमारवीं गांव लढयाणी में सन 1923 को हुआ।उनकी शादी मसधाण गांव के सुन्दर राम शर्मा जी से हुई।जो कि दर्जी का कार्य करते थे।

लालों देवी की शादी 1939 में 16 साल की उम्र में उनकी शादी सुन्दर राम शर्मा गांव मसधाण में हुई।

ऐसा है लालों देवी जी का परिवार:_
उनके पांच बच्चे हैं एक लडक़ा, चार लड़कियां हैं।एक पोता,लालों देवी अपने बेटों के साथ रहती है और आज तक भी अपने जीवन की घटनाओ को अपने पोतों के साथ सांझा करतीं हैं।

अम्मा जी का युवकों को संदेश:- नशे से रहे दूर।आज का युवा नशे को पहले तो फैशन के रुप में देखना है, ओर धीरे धीरे उसकी गिरफ्त में फंसता चला जाता है।लालों देवी ने युवा पीढ़ी को संदेश देते हुए कहा कि सभी युवा नशे जैसी सामाजिक बुराईयों से दूर रहकर खेलों को अपने जीवन का हिस्सा बनाएं।