मेडिकल डिवाइसेस पार्क के क्रियान्वयन के लिए दो समितियों का गठन।

प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि नालागढ़ में प्रस्तावित हिमाचल मेडिकल डिवाइसेस पार्क के निर्माण एवं स्थापना से संबंधित सभी कार्यों को सुचारू रूप से क्रियान्वित करने के लिए प्रदेश सरकार ने इस परियोजना की राज्य क्रियान्वयन एजेंसी हिमाचल प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास निगम (एचपीएसआईडीसी) के तहत दो समितियों का गठन किया है।

परियोजना के लिए उद्योग विभाग के प्रशासनिक सचिव की अध्यक्षता मंे गठित उच्च स्तरीय समिति में उद्योग विभाग के निदेशक को सदस्य सचिव बनाया गया है। समिति के अन्य सदस्यों में जल शक्ति विभाग के सचिव, ऊर्जा विभाग के सचिव, पर्यावरण, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के निदेशक, एचपीएसआईडीसी के प्रबंध निदेशक, केंद्र सरकार के फार्मास्यूटिकल विभाग के प्रतिनिधि, राष्ट्रीय फार्मास्यूटिकल शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान के निदेशक और पीजीआई के सेंटर फॉर इनोवेशन एंड बायो डिजाइन के प्रतिनिधि को शामिल किया गया है। इनके अलावा इसमें समिति द्वारा चयनित अन्य सदस्य भी शामिल किए जा सकते हैं।

प्रवक्ता ने बताया कि यह उच्च स्तरीय समिति परियोजना के संबंध में कई महत्वपूर्ण निर्णय लेने के लिए अधिकृत होगी तथा प्रदेश सरकार और राज्य क्रियान्वयन एजेंसी के बीच एक कड़ी के रूप में कार्य करेगी।

प्रवक्ता ने बताया कि उच्च स्तरीय समिति के अलावा उद्योग विभाग के निदेशक की अध्यक्षता में एक कार्यकारी समिति का गठन भी किया गया है। अतिरिक्त निदेशक उद्योग इसके संयोजक होंगे। इसके सदस्यों में एचपीएसआईडीसी के प्रबंध निदेशक, सेंट्रल ड्रग स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑरगेनाइजेशन बद्दी के प्रतिनिधि, बिजली बोर्ड वृत्त सोलन के अधीक्षण अभियंता, जल शक्ति विभाग के वृत्त सोलन के अधीक्षण अभियंता, मेडिकल डिवाइसेस क्षेत्र से चयनित विशेषज्ञ और केंद्र सरकार से नामांकित दो सदस्य शामिल होंगे। इनके अलावा कार्यकारी समिति भी अन्य सदस्यों का चयन कर सकती है।

प्रवक्ता ने बताया कि कार्यकारी समिति परियोजना को निर्धारित समय अवधि में पूरा करने की दिशा में कार्य करेगी तथा हर तिमाही के बाद परियोजना की प्रगति की समीक्षा करेगी।