पश्चिमी बंगाल के चुनाव परिणाम का स्वागत करते हुये भवन एवं अन्य सनिर्माण कामगार यूनियन इंटक प्रदेश अध्यक्ष व राज्य महामंत्री असंगठित कामगार कांग्रेस राजीव राणा ने कहा कि पश्चिम बंगाल के चुनाव ने पूरे देश में शानदार उदाहरण पेश किया है ,क्योंकि सिर्फ पश्चिम बंगाल ही दे रहा है पुरानी पेंशन। और अन्य राज्यों को भी पुरानी पेंशन स्कीम बहाल करनी चाहिए।राजीव राणा ने कहा कि आज संकट के समय कोरोना महामारी में अग्रणी भूमिका में देश का एनपीएस कार्मिक डॉक्टर, नर्स,स्वस्थ कर्मी, पुलिस कर्मी,रेलबे, बैंक,सफाई कर्मी देश सेवा में समर्पित हैं,जो अत्यंत सराहनीय है,राणा ने कहा कि देश में सरकार दोहरी नीति चला रही है, जहाँ एक तरफ एक दिन के कार्यकाल में

विधायक, सांसद, पुरानी पेंशन के हकदार बन जाते हैं, वहीं दूसरी ओर एक कर्मचारी ज़िन्दगी के 30-35 बर्ष सेवा करने पर बाजार आधारित एनपीएस पेंशन दी जाती है,जो अत्यंत चिंता जनक है। राणा ने कहा कि बंगाल के चुनाव से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, व प्रदेश सरकार को आंखे खोलनी होगी, और पुरानी पेंशन मुद्दे को गंभीरता से लेना होगा,जो देश के साठ लाख कार्मिकों का मुख्य मुद्दा और बुढ़ापे का सहारा है।राजीव राणा ने जोर देकर कहा कि एनपीएस पुरानी पेंशन मुद्दा देश की युवा पीढ़ी,और देश से जुड़ा मुख्य मुद्दा है,देश के कर्मचारियों को पेंशन मिलती है तो युवा वर्ग को भी रोजगार के अवसर मिलेंगे।राणा ने केंद्र की मोदी, और प्रदेश की जय राम सरकार को चेताया कि समय रहते एनपीएस पुरानी पेंशन को बहाल किया जाये ,सरकार आंदोलन के लिए कर्मचारियों को मज़बूर न करे,और इस आंदोलन को राष्ट्रीय मज़दूर कांग्रेस (इंटक)मुख्य रूप से उठायेगी।