एस एम न्यूज़ ब्यूरो चम्बा- जनजातीय क्षेत्र पांगी में पिछले कई दिनों से एक भी प्रशासनिक अधिकारी नहीं था, तो पांगी घाटी के ब्लॉक सीमित के चेयरमैन, TAC,

जिला परिषद क्यों कुम्भकर्णी नींद में थे। आज इन्हें पांगी घाटी के लोगों की मजबूरी क्यों नही दिखाई दे रही है। दूसरी ओर विपक्ष ने कभी भी इस और ध्यान नहीं दिया

और न ही इस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की। इससे साफ जाहिर होता है कि कांग्रेस पार्टी अभी भी हार से उभर नहीं पाई है।

बता दें कि वीरवार शाम को SDM पांगी पहुंचे हैं। लेकिन तहसीलदार, RC, BDO, आदि अभी भी घाटी में नही पहुँच पाए हैं। जिसके कारण जानता को मुख्यालय किलाड़ से निराश होकर वापिस लौटना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि पांगी के

बुद्धिजीवी नेताओं ने भी चुपी बनाई रखी है, पांगी में प्रशासनिक अधिकारी के न होने पर सरकार के खिलाफ कुछ भी नहीं बोल पा रही है। शायद यही पांगी घाटी के अच्छे दिन है और शायद इन्हीं को अच्छे दिन कहते हैं।

मुख्यमंत्री ने 5 हैक्टेयर तक वन भूमि परिवर्तन का अधिकार राज्य को देने का किया आग्रह।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here