जिला की तीन पंचायतें स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) में बनेंगी आदर्श पंचायतें

हमीरपुर, 14 जून। उपायुक्त श्री हरिकेश मीणा ने आज यहां खंड विकास अधिकारियों के साथ जिला में जारी ग्रामीण विकास कार्यक्रमों की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक की अध्यक्षता की।

उन्होंने कहा कि ग्रामीण विकास में खंड विकास अधिकारियों की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण होती है और वे पूरी ईमानदारी व कर्त्तव्यनिष्ठा के साथ अपने कार्यों का निर्वहन करें। सभी खंड विकास अधिकारी पंचायत स्तर पर जारी विकास कार्यों का

निरंतर निरीक्षण कर इनकी गुणवत्ता पर भी नजर रखें। ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि व जल संरक्षण की दिशा में कार्य करने को प्राथमिकता प्रदान करें। इसके लिए पंचायत स्तर पर लोगों को वाटर हार्वेस्टिंग टैंक तथा चैक डैम निर्मित करने के लिए प्रेरित

करें। इस तरह के जल भंडारण टैंक व्यक्तिगत व सामूहिक दोनों तरह से निर्मित किए जा सकते हैं और इसके लिए धन की समुचित व्यवस्था का भी प्रावधान है।

उन्होंने खंड विकास अधिकारियों से आग्रह किया कि वे अपने खंडों में निर्माणाधीन चैक डैम इत्यादि के कार्य का निरीक्षण कर इनके तकनीकी पहलुओं संबंधी उपयोगी जानकारी भी लोगों तक पहुंचाएं। चैक डैम व जल भंडारण टैंकों के निर्माण से भू-

क्षरण में भी कमी आती है और इससे लघु सिंचाई की सुविधा ग्रामीण लोगों को प्राप्त हो सकेगी। इन भंडारण टैंकों के समीप भूमि पर फलदार व अन्य किस्म के पौधे

लगाने के लिए भी लोगों को प्रेरित करें। इस तरह के पौधारोपण कार्यों में उद्यान व वन विभाग का भी सहयोग लें। आस-पास के खंडों में हो रहे बेहतर कार्यों को भी

एकदूसरे से सांझा करें और अपने क्षेत्र के लोगों को भी प्रेरित करें। इसके लिए पंचायत प्रतिनिधियों के साथ संयुक्त भ्रमण कार्यक्रम आयोजित करने की भी संभावनाएं तलाशें।

उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अंतर्गत जिला की तीन पंचायतों को आदर्श पंचायत के रूप में विकसित किया जाएगा और इसके लिए कार्य योजना भी तैयार कर ली गयी है। इनमें विकास खंड सुजानपुर की टिहरा, बिझड़ी की

कलवाल तथा नादौन की कमलाह पंचायत शामिल है। इसी तरह आगामी 2 अक्तूबर, 2019 तक जिला की 35 पंचायतों को शून्य कचरा पंचायत के रूप में विकसित किया जाएगा। इन सभी पंचायतों में कूड़ा-कचरा एकत्र कर इसके उचित निस्तारण की व्यवस्था पर कार्य करने का लक्ष्य रखा गया है।

बैठक में बताया गया कि जिला में मनरेगा के अंतर्गत इस वित्तीय वर्ष में 11 जून, 2019 तक लगभग 370 लाख रुपए व्यय कर लगभग 1,64,584 कार्य दिवस अर्जित किए गए हैं। इस अवधि में लगभग 91 प्रतिशत क्रियाशील जॉब कार्ड के सत्यापन का

कार्य भी पूर्ण कर लिया गया है। उन्होंने मनरेगा कार्यों का भुगतान समय पर करने के भी निर्देश सभी संबंधितों को दिए। इसके अतिरिक्त राष्ट्रीय आजीविका मिशन (ग्रामीण), प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण), मुख्यमंत्री आदर्श ग्राम योजना,

मुख्यमंत्री लोक भवन योजना, मातृ शक्ति बीमा योजना, पंचायतीराज विभाग से जुड़े प्रिया सॉफ्ट, ई-परिवार इत्यादि पर भी विस्तार से चर्चा की गयी।

बैठक में अतिरिक्त उपायुक्त श्री रत्तन गौत्तम, उप निदेशक एवं परियोजना अधिकारी, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण श्री के.डी. कंवर, जिला पंचायत अधिकारी श्री रमेश चंद सहित सभी खंड विकास अधिकारी व अन्य संबंधित उपस्थित थे।

Desk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here