नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्मारक राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर में शनिवार को अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस का समापन।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्मारक राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर में शनिवार को अंतरराष्ट्रीय कांफ्रेंस का समापन हुआ। दो दिन तक चली इस कांफ्रेंस में प्रदेश व देश के विभिन्न महाविद्यालय और विश्वविद्यालयो तथा विदेश के विभिन्न शिक्षण संस्थानों के 180 प्रतिभागी शिक्षकों एवं शोधार्थी विद्यार्थियों ने भाग लिया। विभिन्न तकनीकी सत्रों में प्रस्तुत किए गए शोध पत्रों में संगोष्ठी के विषय पर विविध विचार व अनुसंधान प्रस्तुत हुए। दूसरे दिन के प्रथम सत्र में बीज वक्ता के रूप में सऊदी अरब के तैफ विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डॉ उमर फारूक ने आनलाइन माध्यम से ‘वेक्टर जनित रोगों पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव विषय’ पर अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया। उन्होंने इसके परिणामो और रोकथाम बारे भी महत्वपूर्ण तथ्यों की जानकारी प्रस्तुत की ।गुजरात ,राजस्थान, हरियाणा, महाराष्ट्र आदि राज्यों की भी अनेक पीएचडी शोधार्थियों ने अपने शोध पत्र पढे व पोस्टर प्रस्तुति भी की। उन्होंने हरित पर्यटन, हरित रसायन, हरित भवन, विद्युत चलित वाहन आदि के प्रयोग पर वक्तव्य दिए । केंद्रीय विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश के प्रोफेसर डॉ जितेंद्र ठाकुर ने दूसरे सत्र में अपना शोध पत्र प्रस्तुत किया। समापन अवसर पर डॉक्टर विजय ठाकुर प्राचार्य राजकीय महाविद्यालय भोरन्ज ने मुख्य अतिथि के रूप मे शिरकत की । उन्होने प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र व समृद्धि चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इससे पूर्व प्राचार्य डॉ प्रमोद पटियाल और संगोष्ठी के अध्यक्ष डॉ शशि शर्मा ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया व सभी प्रतिभागियों का संगोष्ठी में भाग लेने के लिए धन्यवाद किया ।इस अवसर पर डॉ शशी शर्मा, डॉ रतन चंद, डॉ विजय ठाकुर, प्रो नीलम गुलरिया ,डॉ कृष्ण लाल, प्रो अल्पना शर्मा, प्रो नीलमणि अग्निहोत्री, डा एन दीपिका खन्ना, प्रो मोनिका, डॉ संजीत सिंह, डॉ वीरेंद्र प्रताप, डॉ हेम सुमन ,प्रो अंजना कुमारी, प्रो सुनीता सकलानी, डॉ पूनम शर्मा, प्रो अपूर्व ठाकुर सहित दर्जनों प्रतिभागी व शोधार्थी विद्यार्थी उपस्थित रहे।