हरियाणा का एक लाल भारत मां की रक्षा करते हुए शहीद हो गया। बीते दिन दक्षिणी कश्मीर में आतंकियों ने भरतीय सेना पर हमला कर दिया। इसमें तीन जवान घायल हो गए तो रेवाड़ी जिले से ताल्लुक रखने वाला दीपक शहीद हो गया। शहादत की खबर के बाद से पत्नी और माता सहित अन्य परिजन का रो-रोकर बुरा हाल है, वहीं सांत्वना देने आने वालों का तांता लगा हुआ है।

शहीद जवान दीपक कुमार दक्षिणी हरियाणा के रेवाड़ी जिले में स्थित गांव जुड्डी के रहने वाले थे। अपने माता-पिता के इकलौते पुत्र दीपक ने गांव के राजकीय स्कूल में प्राथमिक शिक्षा हासिल करने के बाद एक निजी स्कूल में आगे की शिक्षा हासिल की। पिता कृष्ण कुमार भी सेना में थे। 2005 में उनकी रिटायरमेंट के बाद दीपक उनकी जगह सेना में भर्ती हो गए। पिता का कुछ बरस पहले देहांत हो चुका है, वहीं अब इकलौता पुत्र शहीद हो गया। 37 साल के दीपक इस वक्त दक्षिणी कश्मीर के कुलगाम जिले में RR बटालियन 24 में सेवारत थे।

बुधवार को उनके आतंकी हमले में शहीद हो जाने की खबर मिली तो परिवार में कोहराम मच गया। गांव के सरपंच राजेंद्र सिंह ने बताया कि परिजनों को बुधवार शाम को दीपक की शहादत की सूचना मिली थी। दीपक की शहादत पर पूरे गांव को गर्व है। वह दीपक बहुत मेहनती और होनहार था। राजेंद्र के मुताबिक परिजनों को ब्रिगेडियर ने बताया था कि गुरुवार दोपहर कश्मीर से फ्लाइट दिल्ली के लिए रवाना होगी, लेकिन उनका पार्थिव शरीर पैतृक गांव में शुक्रवार दोपहर बाद तक पहुंच पाएगा। उधर, चचेरे भाई अनिल का कहना है कि दीपक बड़ा ही मिलनसार था जब भी छुट्टी आता था तो गांव में सभी से मिलकर जाता था।