संजीव राणा ब्यूरो-बड़सर उपमंडल के सरकारी कार्यालयों में रैडक्रास, होली व हमीर उत्सव के नाम पर डोनेशन ली जा रही है। कार्यालयों में काम करवाने पहुंच रहे लोगों को साथ

में 10 से लेकर 100 रुपए तक की पर्चियां जबरन थमाई जा रही हैं। ऐसे में लोगों में जबरदस्त आक्रोश गहरा गया है। हैरानी की बात है कि बिना लोगों को

पूछे व उनकी सहमति लिए पर्चियां थमाई जा रही हैं। हमीर उत्सव को लेकर पर्चियां काटने का दौर शुरू हो चुका है।

उपमंडल के तहत आने वाले तहसील कार्यालय बड़सर व तहसील कार्यालय बिझड़ी के अलावा अन्य कई सरकारी विभागों में भी राज्य स्तरीय हमीर उत्सव

के नाम पर चंदा एकत्रित किया जा रहा है। लोगों ने कहा कि तहसील कार्यालय में छोटे छोटे काम के लिए पहुंचने पर भी 50 से 100 रु तक की पर्चियां काटी

जा रही हैं। जबकि इन्हें काटने से पहले हमारी राय नहीं ली जा रही है। लोगों ने कहा कि सरकारी कार्यालयों में पर्चियां काटना गलत है। अकेले बिझड़ी तहसील

कार्यालय को आगामी हमीर उत्सव के लिए 67000 रुपए की पर्चियां जारी की गई हैं।

केवल एक महीने के अंतराल में कार्यालय को उत्सव के सफल आयोजन के लिए जमा करवानी है। राज्य स्तरीय हमीर उत्सव का भार आम लोगों के सर डाला

जा रहा है। ऐसे ही एक मामले में 85 वर्षीय बुजुर्ग की जबरन 100 रुपए की जबरन पर्ची काट दी गई, जबकि उम्र के इस पड़ाव में वे कहीं आने जाने में भी

लाचार हैं। उधर एसडीएम बड़सर प्रदीप कुमार ने बताया कि हमीर उत्सव को लेकर टारगेट मिला तो है, लेकिन जबरदस्ती

किसी की पर्ची नहीं काटी जा सकती। उन्होंने कहा कि शिकायत आने पर कार्रवाई की जाएगी।

(make money online) (amazone)  (flipkart) (live) (india tv live) (live news) (youtube)  (breaking news) (how to earn money online)  (maps)  (wheather) (translate) (youtube mp3)(news) (discovery) (pub g download free) (gmail) (youtube downloder)  (calculator) (facebook) (Wikipedia)  (analytics)

Leave a Reply