सुजानपुर की पंचायतों में चलाया पोषण जागरुकता अभियान।

सुजानपुर 21 मार्च। बाल विकास परियोजना अधिकारी कार्यालय सुजानपुर ने पोषण पखवाडे के अवसर पर पोषण जागरुकता, रजोधर्म प्रबंधन तथा वर्षा जल प्रबंधन में महिलाओं की भूमिका विषय पर क्षेत्र की विभिन्न ग्राम पंचायतों और स्थानीय नगर परिषद क्षेत्र में जागरुकता शिविर आयोजित किए। ग्राम पंचायत री के गांव भलाणा, ग्राम पंचायत पनोह के गांव ठलाकणा, ग्राम पंचायत धवड़ियाणा के चमारकड़ और नगर परिषद सुजानपुर के वार्ड नंबर 5 में आयोजित इन शिविरों के दौरान बाल विकास परियोजना अधिकारी कुलदीप सिंह चौहान ने लोगों को कई महत्वपूर्ण जानकारियां दीं।
उन्होंने बताया कि उचित पोषण स्वास्थ्य की महत्वपूर्ण आधारशिला है। संतुलित एवं पौष्टिक आहार से ही हम पूर्ण रूप से स्वस्थ रह सकते हैं तथा कई बीमारियों से बच सकते हैं। बाल विकास परियोजना अधिकारी ने बताया कि हमारे भोजन में सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी और अधिकता दोनों समान रूप से हानिकारक हैं। उन्होंने कहा कि भारत जैसे विकासशील देशों में एक ओर लाखों लोग अत्यधिक या असंतुलित आहार के कारण गैर संचारी और रोगों से पीड़ित हैं और मोटापे को रोकने के लिए भारी-भरकम धनराशि खर्च कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर देश की एक बड़ी आबादी अल्प पोषण का सामना कर रही है। अतः हमें स्वास्थ्य प्रबंधन, एनीमिया प्रबंधन, रजोधर्म प्रबंधन, जल प्रबंधन जैसे विषयों को समग्र रूप में देखना चाहिए, क्योंकि ये सभी विषय एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं तथा स्वास्थ्य प्रबंधन में एक दूसरे को प्रभावित करते हैं।
उन्होंने कहा कि पोषण जागरूकता और स्वास्थ्य शिक्षा को पोषण संवर्धन के लिए एक महत्वपूर्ण तकनीक के रूप में मान्यता दी गई है जोकि सामुदायिक और राष्ट्र जीवन तथा विकास की गुणवत्ता में सुधार के लिए सर्वाधिक लागत प्रभावी तकनीक भी है। बाल विकास परियोजना अधिकारी ने कहा कि पोषण संबंधी हस्तक्षेप और विभिन्न संबद्ध हस्तक्षेपों को जोड़कर समग्र स्वास्थ्य गुणवत्ता में सुधार लाना ही पोषण पखवाड़े के आयोजन का मुख्य उद्देश्य है।
इन जागरुकता शिविरों के दौरान जिला परिषद सदस्य सुमन कुमारी, खंड समिति सदस्य री सुमन देवी, प्रधान ग्राम पंचायत री शशि बाला, प्रधान ग्राम पंचायत धवड़ियाणा बामदेव, वार्ड सदस्य ठलाकना चंद्रेश कुमारी, सदस्य नगर परिषद सुजानपुर अनीता कुमारी, स्वास्थ्य कर्मी विपुल देवी, अनिल अग्रवाल फाउंडेशन केे समन्वयक दलजीत सिंह व स्वयंसेवी संस्था हिमोत्थान की समन्वयक शशि कला विशेष रूप से उपस्थित रही। इस अवसर पर अनिल अग्रवाल फाउंडेशन और हिम्मोत्थान की ओर से वृहद स्तर पर रक्त जांच एवं स्वास्थ्य जांच की रूपरेखा तैयार की गई।