विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर हमीरपुर में सम्पन्न हुआ एक दिवसीय राष्ट्रीय ऑनलाइन वेबिनार।

1972 से प्रत्येक वर्ष मनाए जाने वाले विश्व के सबसे बड़े वार्षिक आयोजन पर्यावरण दिवस की इसी कडी में नेताजी सुभाष चंद्र बोस स्मारक राजकीय महाविद्यालय हमीरपुर में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई द्वारा राष्ट्रीय वेबिनार का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।
राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई के कार्यक्रम अधिकारी डॉ मनोज डोगरा व डॉ राकेश कु० शर्मा ने संयुक्त प्रैस विज्ञप्ति जारी करते हुए बताया कि “पर्यावरण एवं सतत विकास:भारत के परिप्रेक्ष्य में” विषय के केन्द्र में राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन हुआ इस वेबिनार की अध्यक्षता हमीरपुर महाविद्यालय प्राचार्य डॉ अंजू बत्ता सहगल ने की।
इस कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में कार्यरत भूगोल के सह-आचार्य,हिमाचल प्रदेश राज्य‌ एनएसएस समन्वयक डॉ बी आर ठाकुर जी ने शिरकत की।
अध्यक्षीय सम्बोधन देते हुए डॉ अंजू बता सहगल ने कहां की,”एक तरफ हम आधुनिक मनुष्य पेड़ों,नदियों व पहाड़ों की पूजा करते हैं इन्हें देवी देवता के रूप में पूजते हैं तो दूसरी ओर नदियों में गंद बहाते हैं और प्राणवायु देने वाले पेड़ों को स्वार्थ पूर्ति के लिए काट देते हैं,आज‌ के‌ इन आधुनिक मनुष्यों ने ही पारिस्थितिकी तंत्र के संतुलन को अस्थिर किया है।”
कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रुप में उपस्थित डॉ बी०आर ठाकुर ने “पर्यावरण और सतत विकास भारत के परिपेक्ष्य में” विषय केन्द्र में अपना वक्तव्य रखते हुए कहा कि,”हम सभी को पर्यावरण का संतुलन बनाए रखकर बिना पर्यावरण प्रभाव के सतत् विकास के आयाम को हासिल करने की आवश्यकता है,भारत तेजी से शहरीकरण की और अग्रसर है लेकिन शहरों में बिस्लैरी बोतल से पानी पीने के इलावा कोई और स्वस्थ्य विकल्प नजर नहीं आता है जोकि चिंता का विषय है‌।
ऐसे विषयों पर भारत को अपनी पर्यावरणीय नीति की आवश्यकता है।
गौरा देवी,किंकरी देवी व सुन्दर लाल बहुगुणा जैसे अनेक पर्यावरण संरक्षको के उदाहरण देते हुए पर्यावरण संरक्षण को दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने की भी अपील की।
उन्होंने कहा कि जब तक प्रकृति स्थिर नहीं होगी तब तक संस्कृति स्थिर तथा शांति व सौहार्द की स्थापना नही की जा सकती‌ है, उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि आज के लोग पेड़ काटकर उनसे कागज बनाकर पेड़ ना काटने पर निबंध लिखते है।”
इस कार्यक्रम के शुभारम्भ में कार्यक्रम अधिकारी डॉ मनोज डोगरा ने सभी का स्वागत करते हुए कहा कि 1972 से मनाए आते जा रहे इस पर्यावरण दिवस यानि पर्यावरण संरक्षण की ज्योति जगाने वाले इस खास दिवस की हिस्सा महाविद्यालय हमीरपुर द्वारा करवाए जा रहे है वेबिनार में बन रहे है।
कार्यक्रम अधिकारी डॉ राकेश कु० शर्मा ने कार्यक्रम में मुख्य वक्ता व कार्यक्रम अध्यक्षा का परिचय रखा तथा कार्यक्रम विषय से भी सबको अवगत करवाया, धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत करते हुए उन्होंने कहा कि आज के इस वेबिनार में अपनी विशेष उपस्थिति दर्ज करवाने पर आप सभी का हार्दिक आभार तथा पर्यावरण दिवस पर ही नही बल्कि प्रत्येक दिन पर्यावरण के बारे में चिंतन कर इसके संरक्षण पर कार्य करना चाहिए।
इस वर्चुअली कार्यक्रम में महाविद्यालय के अनेक आचार्य गण व राष्ट्रीय सेवा योजना ईकाई के स्वयंसेवी तथा अन्य छात्र गण भी मुख्य रुप से उपस्थित रहे।

 

   Our Srevice

 1. News Production. 2. Digital Marketing .3 Website Designing. 4.SEO. 5 Android Development.6 Android App. 7 Google ads.  8 Youtube, Google,Twiter, Instagram Mkt.  9 Facebook Marketing Etc. 

Subscribe Us On Youtube 

Sm News Himachal 

Contact Us -+91 98166 06932,+91 93189 15955, +91 94184 53780

Join Us On Whatsapp Group