हमीरपुर, 18 जुलाई। सुगम्य निर्वाचन के लिए गठित जिला स्तरीय निगरानी
समिति की एक बैठक आज यहां समिति के अध्यक्ष एवं अतिरिक्त उपायुक्त श्री
रत्तन गौत्तम की अध्यक्षता में आयोजित की गयी, जिसमें हाल ही में संपन्न
लोकसभा निर्वाचन के दौरान दिव्यांग मतदाताओं को प्रदत्त विभिन्न सेवाओं
का पुनर्मूल्यांकन कर उन्हें और बेहतर करने के बारे में सारगर्भित चर्चा
की गई।

श्री रत्तन गौत्तम ने कहा कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार लोकसभा
निर्वाचन-2019 के दौरान हमीरपुर जिला में दिव्यांग मतदाताओं के लिए सभी
आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करवाने के हर संभव प्रयास किए गए। जिला में चार
हजार से अधिक दिव्यांग मतदाताओं को मतदान केंद्रवार चिह्नित कर उन्हें
मतदान के लिए प्रेरित किया गया। दृष्टि बाधित मतदाताओं के लिए ब्रेल लिपि
में उत्कीर्ण मतदाता पहचान पत्र व मतदाता सूचियों का प्रावधान भी किया
गया था। विशेष प्रशिक्षक के माध्यम से मूक-बधिर मतदाताओं को मतदान
प्रक्रिया के बारे में जानकारी प्रदान की गयी। उपमंडल स्तर पर जागरूकता
शिविरों का भी आयोजन किया गया।

मतदान दिवस पर निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुरूप सभी मतदान
केंद्र तक परिवहन, व्हील चेयर, रैंप, पंक्ति रहित मतदान, स्वयंसेवी,
सुगम्य पेयजल व शौचालय इत्यादि की सुविधाएं प्रदान की गयी। उन्होंने
प्रदत्त सेवाओं पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि इन सभी प्रयासों से इस
बार जिला में दिव्यांग मतदाताओं की मत प्रतिशतता 54 प्रतिशत के लगभग दर्ज
की गयी है। इस अवसर पर सुगम्य निर्वाचन प्रक्रिया को और बेहतर करने के
दृष्टिगत समिति के सदस्यों ने अपने-अपने सुझाव भी दिए।

बैठक में उप निदेशक एवं परियोजना अधिकारी, जिला ग्रामीण विकास प्राधिकरण
श्री के.डी. कंवर, जिला कल्याण अधिकारी श्री संजीव शर्मा, नगर परिषद के
कार्यकारी अधिकारी श्री सतीश ठाकुर सहित लोक निर्माण विभाग, निर्वाचन
कार्यालय सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here