मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक पिता अपनी ही सौतेली बेटी से 4 माह तक दुष्कर्म करता रहा. पीड़िता ने डरकर मां को पिता की दरिंदगी सुनाई, लेकिन मां ने मदद करने की बजाय उसे ही डराकर चुप करा दिया. 4 महीनों तक पिता का जुल्म सहने के बाद 23 मार्च को वह घर से भागकर अपनी दादी के यहां जा पहुंची. दादी की सहायता से अब जाकर भोपाल में आरोपी माता-पिता गिरफ्तार हुए।

नाबालिग की दादी का घर सागर में है, प्रताड़ना से तंग होकर उसने दादी के पास जाकर पूरी बात बताई. तब जाकर अशोका गार्डन पुलिस ने सौतेले पिता और मां को आरोपी बनाया. दोनों को ही गिरफ्तार कर लिया गया है. इस पूरी घटना से नाबालिग इतनी भयभीत है कि वह अपनी मां के पास भी नहीं जाना चाह रही।

अशोका गार्डन पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद बताया कि नाबालिग इसी इलाके की एक बस्ती में अपने माता-पिता के साथ रहती थी. पिता की मौत के बाद मां ने दूसरी शादी कर ली, लेकिन सौतेला पिता शादी के बाद से ही उस पर बुरी नजर रखे हुए था।

बच्ची को धमकाकर करा दिया चुप

नाबालिग पर कई दिनों से बुरी नजर डाले आरोपी पिता ने दिसंबर 2020 में पत्नी के घर से बाहर होने पर मासूम से दुष्कर्म किया. नाबालिग रोने लगी पर आरोपी ने उसे पीटते हुए चुप करा दिया. मां के घर लौटते ही उसने बताया कि पापा ने आज उसके साथ गलत काम किया, उन्होंने उसे मारा भी. पिता की हरकत जानकर भी मां शांत रही, उल्टा बच्ची से ही कहा कि ये बात वह किसी से भी न कहे।

कई बार ज्यादती सहने के बाद पहुंची दादी के घर

मां के शांत कराने के बाद पिता ने बार-बार उससे दुष्कर्म किया, लेकिन बच्ची ने किसी से कुछ नहीं कहा. अंत में माता-पिता के रवैये से दुखी होकर नाबालिग भोपाल से भागकर सागर अपनी दादी के पास जा पहुंची. अकेले ही सागर पहुंची बच्ची की हालत देख दादी ने उससे बात की. बच्ची ने दादी के सामने ही रोते-बिलखते हुए अपने साथ हुई दरिंदगी सुनाई।