पांगी की विभिन्न समस्याओं को लेकर आवासीय आयुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा ज्ञापन। जाने क्या है मांगें

सुरेंद्र ठाकुर एस एम न्यूज़ ब्यूरो चम्बा – जनजातीय क्षेत्र पांगी में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के कार्यकर्ताओं ने गांधी जयंती के उपलक्ष्य पर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी दफ्तर

से आवासीय आयुक्त दफ्तर तक मौन रैली निकाली गई। ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जी एस चौहान, महासचिव सिया राम खन्ना के साथ इस मौन रैली में 90

से 100 कार्यकर्ता मौजूद रहे। साथ ही आवासीय आयुक्त पांगी के माध्यम से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर, जनजातीय विकास मंत्री रामलाल मार्कण्डेय व

हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर को विभिन्न समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन सौंपा गया।

ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की मांगें

आर्थिक मंदी

जी एस चौहान ने बताया कि केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण देश की GDP 7.5% से नीचे आ कर 5% हो गई है जिसका एक मात्र कारण नोटबन्दी तथा जल्दी से लगाई गई GST है।

महंगाई

आजकल महंगाई आसमान को छू रही है जिसका सरकार पर कोई भी नियंत्रण नहीं है। इसका ताजा उदाहरण है प्याज के दाम 70 से 80 रुपये प्रति किलोग्राम बिकना।

बेरोजगारी

अनायास नोटबन्दी के कारण लगभग डेढ़ करोड़ लोग विशेष कर छोटे व्यापारी बेकार हो गए हैं और इसका प्रभाव GDP पर पड़ा तथा इसी कारण देश में आर्थिक मंदी आ गई। केंद्र सरकार ने 2 करोड़ रोजगार का वायदा किया था परंतु बेरोजगारी बढ़ती गयी और यह सबसे ज्यादा है।

भ्रष्टाचार

आजकल हमारे देश मे भ्रष्टाचार का ही बोलबाला है। किसी भी कार्यालय में आम आदमी का काम बिल्कुल नहीं होता है और संस्कृति लगभग समाप्त हो गई है। हिमाचल सचिवालय में भी कई फाइलें डेढ़ सालों से भी अधिक समय से अनीर्णित पड़ी है।

स्थानीय समस्यायें

पांगी घाटी मुख्यालय किलाड़ में सस्ती दरों पर इमारती लकड़ी उपलब्ध हो

वर्ष 2017 में सरकार द्वारा इमारती लकड़ी का डिपू खोलने का आदेश जारी कर दिया था परंतु 2 साल बीत जाने के बाद भी कोई भी कार्यवाही नहीं हुई। जिसके कारण जनता परेशान है।

किलाड़ में मल निकासी योजना के कार्य शीघ्र हो

उक्त मल निकासी योजना का शिलान्यास मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल द्वारा वर्ष 2008 में किया गया था। परंतु आज दिन तक कोई कार्य नहीं हुआ।

घाटी में अनियमित विघुत आपूर्ति को बहाल करना

पांगी घाटी में इस समय कुल विधुत उत्पादन केवल मात्र 1400 किलोवाट है जबकि विधुत की खपत लगभग 3000 किलोवाट है जिस कारण विधुत आपूर्ति बाधित रहती है। इस समस्या को सुलझाने हेतू माहलू नाला में चरण -2 3मेगावाट का निर्माण किया जाए।

पांगी घाटी को 12 महीने सुरंग मार्ग से जोड़ा जाए

यद्यपि केंद्र सरकार ने पठानकोट, द्रमण, चुवाड़ी जोत, चम्बा तीसा वाया साच पास किलाड़ को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किया है। तथापि इस मार्ग का औचित्य तभी होगा जब चेहणी सुरंग का निर्माण होता है।

पांगी घाटी को लद्दाख में न मिलने बारे

जैसे कि हाल ही में अमर उजाला में प्रकाशित समाचार के अनुसार लद्दाख बौद्धिष्ट एसोसिएशन के युवा विंग ने केंद्र सरकार से मांग की है कि पांगी जनजातीय क्षेत्र को लद्दाख में मिलाया जाए। इस प्रस्ताव की ब्लॉक कांग्रेस कमेटी पांगी घोर निंदा व भतर्सना करते हैं। उन्होंने इतिहास का गलत उदहारण दिया है। पांगी हमेशा चम्बा राजा की रियासत के हिस्सा था और पांगीवासी हिमाचल के अलावा किसी ओर क्षेत्र में नहीं मिलना चाहते हैं इस प्रकार का कोई प्रयास सफल नहीं होने देंगे।

पांगी घाटी के पाठशालाओं, कॉलेज, कार्यालयों तथा नागरिक चिकित्सालय में रिक्त पदों को भरा जाए

खेद का विषय है कि सरकार ने विभिन्न संस्थान तो खोल दिये हैं परंतु वहां कार्य करने वाले कर्मचारियों, अध्यापकों, प्राध्यापकों, प्रवक्ताओं व डॉक्टरों के बहुत से पद खाली पड़े हैं जिसके कारण जनता को बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है
ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष जी एस चौहान व महासचिव सिया राम खन्ना ने सरकार से आग्रह किया है कि पांगी घाटी से संबंधित सभी मांगों के बारे केंद्र सरकार व प्रदेश सरकार जल्द समाधान करें।

(make money online) (amazone)  (flipkart) (live) (india tv live) (live news) (youtube)  (breaking news) (how to earn money online)  (maps)  (wheather) (translate) (youtube mp3)(news) (discovery) (pub g download free) (gmail) (youtube downloder)  (calculator) (facebook) (Wikipedia)  (analytics)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here