राजेश धर्माणी ने नवोन्मेषी प्रयासों के साथ प्रतिस्पर्धात्मक कार्य प्रणाली अपनाने पर बल दिया

नगर एवं ग्राम नियोजन, आवास और तकनीकी शिक्षा मंत्री राजेश धर्माणी ने आज यहां हिमाचल प्रदेश आवास और शहरी विकास प्राधिकरण (हिमुडा) के निदेशक मंडल की बैठक की अध्यक्षता की। उन्होंने कहा कि हिमुडा सतत एवं समावेशी शहरी विकास के दृष्टिगत नवाचार अपनाकर कार्य करना सुनिश्चित करे।
नगर एवं ग्राम नियोजन, आवास मंत्री ने कहा कि प्राधिकरण की परिसंपत्तियों की जियो टैगिंग करने पर बल दिया। उन्होंने प्राधिकरण को उपयोगकर्ताओं के सुझावों के अनुरूप उनकी आवश्यकताओं को अधिमान देते हुए निर्माण कार्य करने को कहा।
निदेशक मंडल ने व्यावसायिक और औद्योगिक क्षेत्रों में औद्योगिक एवं व्यापारिक भवन और गोदाम निर्माण इत्यादि की संभावनाओं के लिए नवोन्मेषी प्रयास करने पर बल दिया। अधिकारियों को लक्ष्य निर्धारित कर परियोजनाओं को समयबद्ध पूर्ण करने के निर्देश भी दिए गए। शिमला की भीड़भाड़ को कम करने के लिए जाठिया देवी में निर्मित होने वाली माउंटेन सिटी परियोजना की समीक्षा भी की गई।
राजेश धर्माणी ने कहा कि हिमुडा महत्त्वकांक्षी माउंटेन सिटी परियोजना के समयबद्ध कार्यान्वयन की दिशा में प्रतिबद्धता से कार्य करे और मास्टर प्लान शीघ्र तैयार किया जाए। परियोजना का उद्देश्य क्षेत्र में आर्थिक गतिविधियों और रोजगार को बढ़ावा प्रदान करना है। यह परियोजना भूकम्परोधी तकनीक युक्त बुनियादी अधोसंरचना के साथ आधुनिक शहर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त करेगी।
बैठक में हिमुडा के उपाध्यक्ष यशवन्त छाजटा, प्रधान सचिव गृह देवेश कुमार, मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं सचिव हिमुडा संदीप कुमार, जल शक्ति एवं लोक निर्माण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी तथा गैर सरकारी सदस्य उपस्थित थे।