मणिपुर में भारतीय सेना की कंपनी भूस्खलन की चपेट में, सात सैनिकों की मौत, 23 लापता।

मणिपुर में लगातार हो रही बारिश के बीच 29 और 30 जून की मध्यरात्रि नोनी जिले में भारी भूस्खलन हुआ. जिरीबाम से इंफाल तक निर्माणाधीन रेलवे लाइन की सुरक्षा के लिए राज्य के नोनी जिले में तुपुल रेलवे स्टेशन के पास तैनात भारतीय सेना की 107 प्रादेशिक सेना की कंपनी के स्थान पर भूस्खलन हुआ. सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार हादसे में 7 सैनिकों की मौत हो गई है, और 23 जवान लापता हैं. रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. ये TA की कंपनी मणिपुर के नोनी जिले के टुपुल रेलवे स्टेशन पर, इंफाल जीरीबम के निर्माणाधीन रेलवे लाइन की सुरक्षा में तैनात थे.

अब तक 13 लोगों को बचाया गया

भारतीय सेना और असम राइफल्स की टीम द्वारा पूरी ऊर्जा के साथ बचाव अभियान चलाया जा रहा है. साइट पर उपलब्ध इंजीनियर प्लांट उपकरण को बचाव कार्यों में लगाया गया है. गुरुवार सुबह साढ़े पांच बजे तक भूस्खलन के कारण फंसे 13 लोगों को बचा लिया गया था. घायलों का इलाज नोनी आर्मी मेडिकल यूनिट में किया जा रहा है.

सेना के हेलीकॉप्टर स्टैंडबाय पर

भूस्खलन के कारण इजाई नदी का प्रवाह प्रभावित हुआ है. भूस्खलन और खराब मौसम के कारण बचाव कार्यों में बाधा आ रही है. हालांकि, लापता व्यक्तियों को बचाने के लिए प्रयास जारी है. मौसम साफ होने के इंतजार में सेना के हेलीकॉप्टर स्टैंडबाय पर हैं. मौसम ठीक होने पर उन्हें भी ऑपरेशन में शामिल किया जाएगा.

सीएम ने किया ट्वीट

जिला प्रशासन खोज, बचाव और राहत कार्यों के लिए राष्ट्रीय और राज्य आपदा प्रबंधन एजेंसियों के संपर्क में है. निवासियों को लगातार बारिश के लिए सतर्क रहने के लिए कहा गया है, जिससे स्थिति और खराब हो सकती है। मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने आपात बैठक की. सीएम ने ट्वीट किया कि आज टुपुल में भूस्खलन की स्थिति का आकलन करने के लिए एक आपातकालीन बैठक बुलाई गई. खोज और बचाव अभियान पहले से ही चल रहा है. एम्बुलेंस के साथ डॉक्टरों को घटनास्थल पर सहायता के लिए भेज दिया गया है.