प्राइवेट स्कूल खुलते ही राजधानी शिमला में लाेग फिर से जाम की समस्या से परेशान हाेने लगे हैं। साेमवार काे जैसे ही प्राइवेट स्कूल खुले, शहर में सुबह से लेकर शाम तक लंबी-लंबी कतारें वाहनाें की लग गई। इस कारण 10 मिनट के सफर में एक घंटा बर्बाद हुआ। ट्रैफिक जाम के कारण शिमला शहर के हर कोने में लोगों को जाम की समस्या का सामना करना पड़ा हैं।

इनमें सबसे ज्यादा जाम विक्ट्री टनल, लक्कड़ बाजार, कसुमप्टी, छोटा शिमला, खलीनी, टॉलैंड, संजौली चौक, पुराना बस स्टैंड, बालूगंज, ढली में लगा रहा। खासकर सुबह और शाम के समय इन स्थानों पर लंबे समय तक वाहनों की कतारें लगी रही। सुबह 9 बजे ही कच्चीघाटी, समरहिल से विक्ट्री टनल के बीच इतना जाम लगा कि लोगों को शिमला पहुंचते-पहुंचते ही सवा दो घंटे लग गए। जबकि कच्चीघाटी से शिमला की दूरी महज कुछ ही किलाेमीटर ही हैं।

विक्ट्री टनल से लेकर ताराहाॅल स्कूल तक जाम लगा रहा।
विधानसभा के नीचे, सिसिल हाेटल तक लंबा जाम में लाेग फंसे रहे।
विधानसभा के नीचे से लेकर आरटीओ ऑफिस तक लाेगाें काे जाम से जूझना पड़ा।
बालूगंज से लेकर तवी माेड़ तक भी जाम की समस्या बनी रही।
छाेटा शिमला से लेकर पुलिस हेडक्वार्टर तक भी जाम लगा रहा।
संजाैली से लेकर सेंट बीड्स तक भी लाेगाें काे जाम की समस्या का सामना करना पड़ा।लक्कड़ बाजार से ऑकलैंड टनल और लक्कड़ बाजार बस स्टैंड तक भी जाम लगा रहा।

शहर में ट्रैफिक का जिम्मा लगभग 200 जवान संभाल रहे हैं। दिनभर शहर के सभी प्वांइट पर यह तैनात रहते हैं। इसमें खास ताैर पर विक्ट्री टनल, विधानसभा चाैक, एमएलए क्राॅसिंग, छाेटा शिमला चाैक, लक्कड़ बाजार में ट्रैफिक जाम की ज्यादा समस्या रहती है।

प्राइवेट स्कूल खुलते ही अधिकतर छात्राें के अभिभावकाें ने निजी गाड़ियाें से ही स्कूल के गेट तक छात्राें काे छाेड़ा। लक्कड़ बाजार, विक्ट्री टनल और एमएलए क्रॉसिंग के पास वाहनाें की कतारें लगी रही। सेंट एडवर्ड स्कूल, ताॅराहाल स्कूल के पास भी वाहनाें की कतारें लगी रही।

अतिरिक्त जवानाें की तैनाती शहर में की है। जाम से निपटने के प्रयास किए जा रहे हैं। लाेगाें काे भी सहयाेग देना चाहिए। सभी ट्रैफिक जवानाें काे निर्देश दिए गए हैं कि वे जाम काे खुलवाने के लिए मुस्तैद रहें ताकि शिमला वासियाें काे परेशानी न हाे। जाम लगने वाले हर प्वाइंट पर जवान तैनात किए हैं।