भाभी उठाने वाली थी देवर के अवैध संबंधों से पर्दा, युवक ने कर दिया मर्डर; हुआ गिरफ्तार

उत्तराखंड के इस शहर में एक बहुत ही ज्यादा हैरान करने वाला मामला सामने आया है। प्रेमिका के साथ अवैध संबंधों के चलते महिला को खौफनाक मौत की सजा दी गई। छानबीन में जब एक के बाद एक हत्या की गुत्थी सुलझी तो पुलिस भी हैरान रह गई।

भाभी का मर्डर करने के आरोप में हत्यारोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। यह पूरा मामला हरिद्वार जिले का है। हरिद्वार में  ममता सैनी हत्याकांड का पुलिस ने रविवार को खुलासा कर दिया। पुलिस का दावा है कि एक महिला से अवैध संबंध में बाधा बनने पर आरोपी देवर ने गला घोटकर भाभी की हत्या की थी।

पुलिस का ध्यान भटकाने के लिए आरोपी ने लूट के मकसद से हत्या होने की भूमिका बनाई थी। एसएसपी प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने पुलिस टीम की पीठ थपथपाई है। रविवार को मायापुर चौकी कैंपस में पत्रकारों को जानकारी देते हुए एसएसपी प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने बताया कि बीस अक्तूबर को शिवनगर रानीगली में महिला ममता सैनी पत्नी महेश सैनी की गला दबाकर हत्या कर दी गई थी।

घर का सामान भी बिखरा हुआ था। मृतका के पुत्र अभय सैनी ने इस संबंध में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया था। प्रारंभिक जांच में हत्याकांड में किसी परिचित के होने के अंदेशा था, लिहाजा उसी बिंदू पर पुलिस ने जांच शुरू की थी।

एसएसपी ने बताया कि मृतका के अविवाहित देवर पेशे से इलेक्ट्रीशियन रामकरण की भूमिका संदिग्ध सामने आने पर पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की तो वह टूट गया। पूछताछ में गुनाह कबूलते हुए उसने जानकारी दी कि उसके एक महिला से अवैध संबंध चले आते हैं।

इस संबंध में जानकारी होने पर भाभी ममता सैनी आए दिन उससे विवाद करती थी। लिहाजा उसने भाभी से छुटकारा पाने की ठान ली थी। घटना के दिन भी उसका रुपये के लेनदेन को लेकर भाभी से विवाद हुआ, जिसके बाद उसने चुन्नी से गला दबाकर भाभी की हत्या कर दी थी।

हत्याकांड को अंजाम देने के बाद वह घर के बाहर कुंडा लगाकर फरार हो गया था। एसएसपी ने बताया कि आरोपी का मोबाइल फोन भी जब्त कर लिया गया है। इस दौरान एसपी सिटी स्वतंत्र कुमार सिंह, सीओ सिटी जूही मनराल, कोतवाली प्रभारी भावना कैंथोला मौजूद रहे।

चंद घंटों में खुलासे से एसएसपी गदगद
48 घंटों में हत्याकांड का खुलासा होने पर एसएसपी प्रमेंद्र सिंह डोबाल ने पुलिस टीम का नकद इनाम की घोषणा की है। पुलिस टीम में कोतवाल भावना कैंथोला, सीआईयू प्रभारी ऐश्वर्य पाल, एसएसआई सतेंद्र सिंह, एसआई आनंद मेहरा, एसआई शैलेंद्र ममगई, एसआई यशवीर सिंह, एसआई रणजीत सिंह तोमर, हेड कांस्टेबल जितेंद्र सिंह, जसविंदर, मनविंदर, राहुल धानिक, एएसआई सुंदर सिंह, हेड कांस्टेबल मनोज, त्रिभुवन, उमेश शामिल रहे।