????????????????????????????????????

भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय पोषण अभियान के अंतर्गत अनीमिया (रक्ताल्पता) की रोकथाम के लिए आयुर्वेद विभाग के माध्यम से

प्रदेश के तीन विकास खंडों में पायलट आधार पर एक परियोजना प्रारंभ की जा रही है। इस आशय की जानकारी गत सायं उपायुक्त श्री हरिकेश मीणा की अध्यक्षता में यहां आयोजित एक बैठक के दौरान दी गयी।

उन्होंने कहा कि छह माह तक चलने वाली इस परियोजना के लिए हमीरपुर जिला के विकास खंड भोरंज के अतिरिक्त ऊना के बंगाणा तथा चंबा के तिस्सा का चयन किया गया है। परियोजना के अंतर्गत भोरंज की 33 पंचायतों के 229

गांवों में 6 माह से 59 माह के नवजात शिशुओं और 5 वर्ष से 45 वर्ष आयु वर्ग के लोगों को लक्षित किया जाएगा, जिनमें बच्चे (5-11 वर्ष), किशोरियां (11-19 वर्ष) तथा महिलाएं (16-45 वर्ष) शामिल हैं। परियोजना में इन सभी का

हिमोग्लोबिन के लिए परीक्षण किया जाएगा। अगर इसकी मात्रा 8 से 12 प्रतिशत रहती है तो इसे औसत और 7 प्रतिशत से कम होने या द्वितयिक रक्ताल्पता होने पर गंभीर श्रेणी में रखा जाता है।

परियोजना अवधि में भोरंज विकास खंड की 77,617 जनसंख्या को लक्षित करते हुए अनीमिया के प्रति जागरूकता तथा इसके उपचार पर विशेष बल दिया जाएगा। इसमें स्थानीय प्रतिनिधियों, स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े पेशेवरों, आशा व

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, युवक व महिला मंडलों का सहयोग लिया जाएगा। स्कूल, कॉलेज, स्वास्थ्य केंद्रों इत्यादि में सामुदायिक शिक्षण कार्यक्रम

आयोजित किए जाएंगे। सभी लक्षित गांवों में नियमित तौर पर चिकित्सा शिविर आयोजित कर अनीमिया का परीक्षण तथा उपचार किया जाएगा।

लक्षित जनसंख्या को आवश्यक दवाएं एवं पूरक आहार भी वितरित किए जाएंगे। इसके लिए 15 दल (पांच आरक्षित) गठित किए गए हैं जो प्रतिदन 10 शिविर लगाएंगे।

परियोजना के दौरान स्थानीय प्रतिनिधियों व स्वयं सेवियों, शिक्षकों व अभिभावकों की क्षमता विकास पर भी कार्य किया जाएगा। इसके अतिरिक्त

पक्ष समर्थन, आपसी संयोजन तथा उपलब्ध डाटा के अनुसार अनुसंधान व मूल्यांकन पर ध्यान दिया जाएगा। अनीमिया की रोकथाम के प्रति लोगों में

जागरूकता का स्तर ऊंचा करना, उन्नत जीवन शैली के माध्यम से इसकी रोकथाम, कम से कम 30 प्रतिशत लक्षित जनसंख्या की नियमित निगरानी करना भी इसमें शामिल है। परियोजना से जुड़ी आशा व आंगनबाड़ी

कार्यकर्ताओं को प्रति विजिट 75 रुपए की प्रोत्साहन राशि भी प्रदान की जाएगी।
बैठक का संचालन जिला आयुर्वेद अधिकारी डॉ. सरिता राणा ने किया। इस

अवसर पर जिला परिषद अध्यक्ष श्री राकेश ठाकुर, उपमंडलाधिकारी (ना.) भोरंज श्री अमित शर्मा, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अर्चना सोनी, जिला

कार्यक्रम अधिकारी (आईसीडीएस) श्री टी.आर. आचार्य, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के अधिशाषी अभियंता श्री अभिषेक शर्मा सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।Desk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here