नशामुक्ति केंद्र में भर्ती युवक की संदिग्ध मौत, परिजनों का आरोप…पीट-पीट कर मारा डाला लाडला।

जिला ऊना के एक नशा निवारण केंद्र में करीब एक महीने के भीतर ही दूसरी बड़ी घटना सामने आई है। नशा निवारण केंद्र में भर्ती 28 वर्षीय युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई है। एक तरफ नशा निवारण केंद्र के संचालक इसे प्राकृतिक मृत्यु बता रहे हैं तो दूसरी तरफ मृतक के परिजनों का आरोप है कि उनके लाडले को नशा निवारण केंद्र में पीट-पीट कर मौत के घाट उतारा गया है। जिला के गगरेट उपमंडल के तहत आते गोंदपुर बनेहड़ा के रहने वाले अजय कुमार जोकि 15 दिन से हरोली उपमंडल के लोअर बढेड़ा स्थित एक नशा मुक्ति केंद्र में उपचाराधीन था, उसकी संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। इसी बीच मध्यरात्रि ही नशा मुक्ति केंद्र के संचालक अजय के शव को परिजनों को सौंप कर चले गए।

शरीर पर जगह-जगह चोटों के निशान, संचालक नहीं दे पाए जवाब
परिजनों का कहना है कि बेटे के शरीर पर जगह-जगह चोटों के निशान हैं और नशा निवारण केंद्र के संचालक इस बारे में कोई जवाब नहीं दे पाए, जिस पर उन्होंने ग्राम पंचायत को सूचना दी और देखते ही देखते लोगो का जमघट लग गया और सभी ने युवक की संदिग्ध मौत की जांच और नशा मुक्ति केंद्र संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। परिजनों का सीधा आरोप है कि उनके बेटे को पीट-पीट कर मारा गया है। उसके पूरे शरीर पर चोटों के निशान हैं और उन्होंने इस बाबत पुलिस को सूचना दे दी है जबकि नशा मुक्ति केंद्र के संचालक युवक की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुई बता रहे हैं।

पुलिस ने खंगाली सीसीटीवी फुटेज

वहीँ पुलिस ने गोंदपुर बनेहड़ा पहुंचकर युवक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाने की प्रक्रिया शुरू करवा दी है। एएसपी ऊना प्रवीन धीमान ने बताया कि पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है और पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही युवक की मौत के कारणों का पता चलेगा। पुलिस ने नशा मुक्ति केंद्र में सीसीटीवी फुटेज भी खंगाली है।