मुख्यमंत्री ने नूरपुर विधानसभा क्षेत्र के तहत बरंडा में स्नातक महाविद्यालय खोलने की घोषणा की

मुख्यमंत्री ने नूरपुर में प्रगतिशील हिमाचल: स्थापना के 75 वर्ष कार्यक्रम की अध्यक्षता की
मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कांगड़ा जिला के नूरपुर के बदूही मैदान में हिमाचल प्रदेश के गठन के 75वें वर्ष में प्रवेश के उपलक्ष्य में आयोजित प्रगतिशील हिमाचल: स्थापना के 75 वर्ष कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस अवसर पर उन्होंने विशाल जनसमूह को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश की इन 75 वर्षों की यात्रा उपलब्धियों भरी रही है जिसका श्रेय राज्य के ईमानदार एवं परिश्रमी लोगों को जाता है। उन्होंने स्थानीय छात्रों की सुविधा के दृष्टिगत बरंडा में राजकीय स्नातक महाविद्यालय खोलने की भी घोषणा की।
 मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सुखद संयोग है कि राष्ट्र अपनी आज़ादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। वहीं प्रदेश अपने गठन के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस ऐतिहासिक अवसर को भव्य ढंग से आयोजित करने के दृष्टिगत देश के प्रत्येक घर में तिरंगा फहराने के लिए हर घर तिरंगा जैसा सराहनीय अभियान शुरू किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार भी हिमाचल के अस्तित्व में आने के 75 वर्षों के उपलक्ष्य में राज्यभर में 75 कार्यक्रम आयोजित कर रही है। इन आयोजनों का मुख्य उद्देश्य युवा पीढ़ी को राज्य की विकासात्मक, सांस्कृतिक और राजनीतिक यात्रा के बारे में शिक्षित करना है।
 जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य के गठन के समय प्रदेश में केवल चार जिले थे जबकि वर्तमान में 12 जिले हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 1948 में राज्य में प्रति व्यक्ति आय मात्र 240 रुपये थी जबकि आज यह बढ़कर 2,01,873 रुपये हो चुकी है और प्रदेश की साक्षरता दर 1948 में 4.8 प्रतिशत से बढ़कर अब 83 प्रतिशत से अधिक हो चुकी है। उन्होंने कहा कि 1948 वर्ष में राज्य में केवल 248 किलोमीटर सड़कें थी जबकि आज प्रदेश में लगभग 40 हजार किलोमीटर सड़कें हैं। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को जाता है जिन्होंने 60,000 करोड़ रुपये की प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना आरम्भ की। राज्य की लगभग 50 प्रतिशत सड़कें प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत बनाई गई हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का प्रदेशवासियों और प्रदेश के प्रति विशेष स्नेह और लगाव है और वह हिमाचल प्रदेश को अपना दूसरा घर मानते हैं।
उन्होंने कहा कि विगत पांच वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री ने सात बार राज्य का दौरा किया और शीघ्र ही उनके प्रदेश के दो या तीन दौरे प्रस्तावित है। उन्होंने कहा कि इस अवधि के दौरान प्रधानमंत्री ने राज्य को अनेक प्रोत्साहन प्रदान किए हैं। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान प्रधानमंत्री ने यह सुनिश्चित किया कि देश इस संकटकाल से अति शीघ्र बाहर निकले। उन्होंने कहा कि देश में विश्व का सबसे बड़ा मुफ्त टीकाकरण अभियान आरम्भ किया गया और इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा प्रदान किए गए सशक्त नेतृत्व को जाता है। उन्होंने कहा कि जब कोविड महामारी फैली उस समय राज्य में केवल 50 वंेटिलेटर थे जबकि आज 1100 से अधिक वेंटिलेटर उपलब्ध हैं।
जय राम ठाकुर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार को अपने पांच वर्षों के कार्यकाल के दौरान दो वर्षों तक कोविड महामारी के खिलाफ लड़ना पड़ा। उन्होंने कहा कि इन वर्षों के दौरान भी राज्य सरकार ने सुनिश्चित किया कि विकास की गति निर्बाध रूप से जारी रहे। चूंकि वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल के दो वर्ष महामारी से प्रभावित हुए और ऐसे में उन्होंने लोगों से सरकार को पांच वर्ष और देने का आग्रह किया ताकि राज्य के विकास और लोगों के कल्याण के लिए और अधिक जोश व प्रतिबद्धता से कार्य कर सकें।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश को पावर स्टेट के रूप में जाना जाता है और सरकार का मानना है कि राज्य के विद्युत उपभोक्ताओं को प्रदेश के इस गौरव का लाभ मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसी कारण राज्य सरकार ने विद्युत उपभोक्ताओं को 125 यूनिट मुफ्त बिजली देने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के इस निर्णय से प्रदेश के कुल 22,59,645 घरेलू उपभोक्ताओं में से 14,62,130 से अधिक उपभोक्ताओं को अब शून्य बिजली बिल मिल रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में महिलाओं को हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में किराये में 50 प्रतिशत की रियायत दी जा रही है और प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में मुफ्त पेयजल उपलब्ध करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अब सत्ता में आने के बाद लोगों को 300 यूनिट मुफ्त बिजली देने का दावा कर रही है जबकि पहले यही नेता आरोप लगा रहे थे कि राज्य सरकार लोगों को मुफ्तखोरी की आदत डाल रही है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने प्रदेश के लिए केंद्रीय परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए 90ः10 के अनुपात को स्वीकृति प्रदान की है। उन्होंने कहा कि राज्य के लिए बल्क ड्रग फार्मा पार्क भी प्रधानमंत्री द्वारा ही स्वीकृत किया गया है।
इससे पहले, मुख्यमंत्री ने नूरपुर के शेष गांवों के लिए चक्की खड्ड से 39 करोड़ रुपये लागत से निर्मित पेयजल आपूर्ति योजना का लोकार्पण किया।
वन मंत्री राकेश पठानिया ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करते हुए कहा कि नूरपुर को पुलिस जिला बनाने की सबसे बड़ी मांग मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के कार्यकाल में पूरी हुई। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लिए स्वीकृत बल्क ड्रग पार्क के खुलने से क्षेत्र और समूचे प्रदेश के विकास को बढ़ावा मिलेगा। उन्होंने नूरपुर क्षेत्र के लोगों की विकासात्मक मांगों को पूरा करने के लिए  हमेशा संवेदनशील रहने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर ज्वाली के विधायक अर्जुन सिंह, राष्ट्रीय लघु बचत राज्य सलाहकार बोर्ड के उपाध्यक्ष संजय गुलेरिया, पूर्व सांसद कृपाल परमार, भाजपा के वरिष्ठ नेता ओ.पी. चौधरी, फतेहपुर क्षेत्र के भाजपा नेता बलदेव ठाकुर, उपायुक्त डॉ. निपुण जिंदल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।