मुख्यमंत्री ने आनी में ‘प्रगतिशील हिमाचलः स्थापना के 75 वर्ष’ कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज कुल्लू जिला के आनी विधानसभा क्षेत्र के आनी में हिमाचल प्रदेश के अस्तित्व के 75 वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित ‘प्रगतिशील हिमाचलः स्थापना के 75 वर्ष’ कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि विकासात्मक जरूरतों, परम्पराओं और जीवनशैली के मामले में आनी क्षेत्र उनके अपने सराज विधानसभा क्षेत्र के समकक्ष है और इस क्षेत्र के प्रति उनका विशेष लगाव है। वर्तमान राज्य सरकार विभिन्न कारणों से वंचित रहे क्षेत्रों के विकास को उच्च प्राथमिकता प्रदान कर रही है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में यात्रा करने वाली महिलाओं को बस किराये में 50 प्रतिशत छूट प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि बस किराये मेें छूट राजनैतिक निर्णय नहीं है बल्कि महिला सशक्तिकरण को और सुदृढ़ करने के हमारे संकल्प को आगे बढ़ाने का एक प्रभावी कदम है। उन्होंने कहा कि यह योजना महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने और प्रदेश में महिला उत्थान को नई दिशा देने में सहायक सिद्ध होगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस योजना पर प्रतिवर्ष 60 करोड़ रुपये व्यय करेगी और इससे परिवहन निगम की बसों में प्रतिदिन यात्रा करने वाली अनुमानित 1.25 लाख महिलाएं लाभान्वित हो रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस नेताओं को राज्य सरकार द्वारा हिमाचल के गठन के 75 वर्ष के अवसर पर किए जा रहे कार्यक्रम शायद रास नहीं आ रहे हैं और वे लोगों को इस बारे में गुमराह करने के प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन्हीं नेताओं ने कोरोना महामारी जैसे संवेदनशील मामले पर भी राजनीतिक करते हुए कोरोना वैक्सीन को मोदी वैक्सीन करार दिया था। हालांकि बाद में यही नेता कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए लाइनों में खड़े नजर आए।
जय राम ठाकुर ने कहा कि बीते 75 वर्षों में प्रदेश ने विकास के सभी क्षेत्रों में अभूतपूर्व प्रगति की है और इसका श्रेय राज्य के सक्षम नेतृत्व और यहां के मेहनती कर्मचारियों, किसानों, युवाओं सहित समस्त प्रदेशवासियों को जाता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1948 की प्रदेश की साक्षरता दर 4.8 प्रतिशत से बढ़कर वर्तमान में 83 प्रतिशत से अधिक हो गई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1948 में 288 किलोमीटर के विपरीत आज राज्य में सड़कों की लम्बाई 39,500 किलोमीटर से अधिक हो चुकी है, जबकि स्वास्थ्य संस्थानों की संख्या भी 88 से बढ़कर आज 4,320 हो चुकी है। उन्होंने कहा कि राज्य के गठन के समय यहां केवल 301 शैक्षणिक संस्थान थे, जबकि आज इनकी संख्या 16,124 तक पहुंच चुकी है। उन्होंने कहा कि वर्ष 1948 में प्रति व्यक्ति आय केवल 240 रुपये थी और आज यह दो लाख रुपये के जादुई आंकड़े को छू चुकी है। उन्होंने कहा कि उस समय राज्य के लोग नदियां पार करने के लिए पारम्परिक साधनों का उपयोग करते थे, जबकि आज राज्य में 2,326 पुल हैं।
मुख्यमंत्री ने भाजपा सरकार का मिशन रिपीट सुनिश्चित करने के लिए आनीवासियों से भरपूर समर्थन की अपील भी की। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा, गोवा और अन्य राज्यों में भाजपा का मिशन रिपीट कामयाब रहा है और अब हिमाचल प्रदेश की बारी है। इससे प्रदेश में विकास की तेज रफ्तार भी बरकरार रहेगी। आनी विधानसभा क्षेत्र के चहंुमुखी विकास का आश्वासन देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि क्षेत्रवासियों की सभी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जाएगा।
क्षेत्र के विकास का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नागरिक अस्पताल आनी के निर्माण पर 66 करोड़ रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इस भवन का कार्य पूरा होने से क्षेत्रवासियों को आधुनिक चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के दूरदराज गांवों के लोगों की सुविधा के लिए प्रदेश सरकार द्वारा निरमंड में एसडीएम कार्यालय खोला गया है।
इससे पहले जय राम ठाकुर ने 44.70 करोड़ रुपये की छह विकासात्मक परियोजनाओं का शिलान्यास भी किया। इनमें नित्थर में संयुक्त कार्यालय परिसर पर 9.22 करोड़ रुपये, पीएमजीएसवाई के तहत दमेहली-निशानी अरसू सड़क के उन्नयन पर 9.47 करोड़ रुपये, नित्थर-डमाह सड़क 7.32 करोड़ रुपये, निशानी-पाली प्रांतला सड़क पर 12.70 करोड़ रुपये और बाजीर बाउड़ी-थाचवा सड़क के उन्नयन पर 5.79 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इनके अलावा मुख्यमंत्री ने आनी में 20 लाख रुपये की लागत से बनने वाले प्रेस क्लब भवन की आधारशिला भी रखी।
मुख्यमंत्री ने पौने पांच वर्षों के दौरान आनी विधानसभा क्षेत्र में शुरू किए गए विकासात्मक कार्यों पर आधारित एक पुस्तिका का भी विमोचन किया।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों का स्वागत करते हुए स्थानीय विधायक किशोरी लाल सागर ने कहा कि वर्तमान राज्य सरकार के कार्यकाल में आनी विकास के मामले में एक आदर्श निर्वाचन क्षेत्र के रूप में उभरा है। उन्होंने कहा कि निरमंड में एसडीएम कार्यालय खोलकर मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने क्षेत्रवासियों की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी की है। उन्होंने कहा कि पौने पांच वर्षों के दौरान क्षेत्र के कई दुर्गम गांवों को सड़कों से जोड़ा गया है और कई स्कूलों को स्तरोन्नत किया गया है। विधायक ने क्षेत्र की कई अन्य मांगें भी मुख्यमंत्री के समक्ष रखीं।
इस अवसर पर उपायुक्त कुल्लू आशुतोष गर्ग, निदेशक सूचना एवं जनसंपर्क हरबंस सिंह ब्रसकोन, क्षेत्र के प्रमुख भाजपा नेता और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।