राज्यपाल बंडारू दत्तात्रेय ने आज कुल्लू के ढालपुर मैदान में सप्ताह भर चलने वाले अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरे का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर राज्यपाल ने कुल्लू के प्रसिद्ध ढालपुर मैदान में भगवान रघुनाथ जी की रथयात्रा में भाग भी लिया।
राज्यपाल ने इस अवसर पर घाटी के लोगों को दशहरे की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि यह पर्व सत्य की असत्य पर जीत का परिचायक है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश की संस्कृति बहुत समृद्ध व अद्वितीय है, जिसकी विश्व भर में अलग पहचान है। प्रदेश में वर्ष भर आयोजित होने वाले मेले और त्यौहार यहां के लोगांे की समृद्ध परम्पराओं और धार्मिक आस्था को दर्शाते हैं। यहां मनाए जाने वाले मेले व त्यौहार प्रदेश की परम्पराओं और मान्यताओं को दर्शाते हैं।
उन्होंने कहा कि आज के आधुनिक समय में प्रदेश के लोगों ने यहां की समृद्ध संस्कृति, रीति-रिवाज तथा परम्पराओं को संजोकर रखा है, जिसके लिए यहां के लोग प्रशंसा के पात्र हैं।
 
इसके उपरांत, राज्यपाल ने विभिन्न सरकारी विभागों, बोर्डों, निगमों व अन्य गैर-सरकारी संस्थानों द्वारा आयोजित प्रदर्शनी का उद्घाटन किया और स्टालों पर जाकर विभिन्न उत्पादों का अवलोकन किया।
इस उत्सव में जिला कुल्लू के विभिन्न क्षेत्रों के लगभग 331 देवी-देवाताओं भाग ले रहे है।
इससे पहले, बंडारू दत्तात्रेय का भूंतर हवाई अड्डे पहुंचने पर भव्य स्वागत किया गया।
वन, परिवहन और युवा सेवाएं एवं खेल मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर, त्रिपुरा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश संजय करोल, हिमाचल प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश धर्म चंद चैधरी, विधायकगण, उपायुक्त कुल्लू डाॅ. रिचा वर्मा तथा जिला प्रशासन के अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here