कोटखाई में आश्रम से लापता साधू की हत्या।

कोटखाई के एक आश्रम में रहने वाले साधू का शव सिरमौर के राजगढ़ क्षेत्र में बरामद हुआ है। साधू को मौत के घाट उतारने के बाद साधू के शव को जंगल में फेंका गया है। बिहार के एक शख्स की गिरफ्तारी के बाद उसकी निशानदेही पर कोटखाई पुलिस ने सोमवार को शव बरामद किया है। सनसनीखेज वारदात में कई और अपराधियों की संलिप्तता भी सामने आ रही है। पुलिस उन्हें गिरफ्तार करने की तैयारी में है।

मृतक साधू की शिनाख्त शिव नारायण पुरी के रूप में हुई है। वो पिछले कुछ दिनों से आश्रम से संदिग्ध परिस्थितियों में गायब था, जिस पर कोटखाई पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज किया था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक जांच में सामने आया कि लापता साधू के एटीएम से बिहार में निकासी हो रही थी। इसकी पड़ताल के लिए पुलिस की एक टीम बिहार भेजी गई। सूत्रों का कहना है कि लूटपाट के इरादे से हत्या को अंजाम दिया गया है। हालांकि हत्या के कारणों की वजह खंगाल रही है।

पुलिस जांच में सामने आया कि साधू का अपहरण हुआ है। पुलिस ने बिहार के नवीनगर में दबिश देकर वहां रह रहे अभियुक्त को गिरफ्तार किया। बाद में अभियुक्त की निशानदेही पर साधू शिव नारायण पुरी का शव राजगढ़ के नेरीपूल के नजदीक कुरू लवाना नामक स्थान पर बरामद किया गया। शिमला की एसपी व एएसपी (हेडक्वार्टर) और एफएसएल टीम ने सोमवार सुबह घटनास्थल का दौरा किया।

उधर, ये भी बताया जा रहा है कि शव को इलाके में 11 जून को फेंका गया था। एसपी शिमला डॉक्टर मोनिका भुटूंगरू ने बताया कि शव का मंगलवार को पोस्टमार्टम करवाया जाएगा। वारदात में एक अभियुक्त को बिहार से गिरफ्तार किया गया है। वारदात में कुछ अन्य अपराधियों के संलिप्त होने की आशंका है। आईपीसी की धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।