असहाय बैल का सहारा बने प्रदेश प्रचार मन्त्री मृत्युञ्जय गर्ग, इंसानियत की दी मिशाल।

0
331

सेना हिमाचल -प्रदेश प्रचार मन्त्री मृत्युञ्जय गर्ग जी को गौपुत्रों से जानकारी प्राप्त हुई थी कि मुंडखर के पास पुनः एक नंदी जी घायल अवस्था मे राजमार्ग पर पड़े हुए हैं,

और प्रशासन को खबर तक नहीं। न ही पूर्व की भांति इसके उपचार, सुरक्षा की कोई व्यवस्था की गई।

तब गर्ग जी ने अधिकारियों को इस विषय पर सूचित किया एवं मदद के लिये आग्रह किया। कि नन्दी जी को सड़क से हटाकर किसी गौशाला में स्थापित किया जाए।

शिकायत मिलने पर इस बार प्रशासन ने नंदी जी को स्थापित करने के लिए गोशाला का सुझाव मात्र दे दिया।

इसके बाद गौपुत्र मृत्युञ्जय गर्ग तुरन्त प्रभावित स्थान पर पहुंचे और गोवंश की सहायता के लिए सज्जनों का आवाहन किया,।

तुरन्त मुंडखर ग्राम पंचायत प्रधान श्री प्रकाश चन्द जी आये, स्थानीय कर्मठ युवा अजय, सुभाष, बाबूराम, सोनी, बंटी, रवि, कनिका, अंजली नेगी, ममता जी तथा

अन्य गोपुत्रों के परिश्रम,निःस्वार्थ सेवा,गौभक्ति से जिला हमीरपुर भोरंज(मुंड़खर) से उठाकर नगरोटा गौशाला में सुरक्षित रख दिया है।

अन्य गौपुत्र व गौपुत्रियों ने वहाँ से नन्दी को उठाकर पिकअप में भरकर गौशाला में पहुँचाया।मुंड़खर पंचायत में एक महीने में ये दूसरा मामला उजागर हुआ है।

पिछली बार प्रशासन को बार बार बताने पर भी कोई मदद नहीं मिल पाई थी ,जिसके बाद वह नन्दी काल का ग्रास बन गए थे।

लेकिन इस बार तुरन्त प्रभसव से मदद करने के लिए प्रशासन एवं सभी सहयोगियों को नमन, कोटि कोटि आभार।

भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने हेतु हम सभी को एक होकर कार्य करना होगा।और संगठन को मजबूत करना होगा।

इस सरहानीय कार्य को देखकर हम उन युवाओ, माताओं बहनों से भी विनती करना चाहते है कि आप अपने आप को कमजोर ना समझे।और गौ सेवा व गौरक्षा में आगे आये।।
गौपुत्र सेना ने हिमाचल प्रदेश में एक अलख जगा दिया और सन्देश दे दिया कि हौंसले बुलन्द हो तो कोई भी कार्य मुश्किल नही होता।

Desk

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here