गर्मी का प्रकोप बढ़ते ही राजधानी शिमला के जंगल आग से सुलगने लगे हैं। उपनगर समरहिल में सैंकड़ों वर्ग मीटर वन्य क्षेत्र आग से खाक हो गया है।

मंगलवार शाम से समरहिल के पाॅटरहिल, चायली और नेरी के जंगलों में भीषण आग लगी हुई है।

आग से करोड़ों की वन संपदा राख और सैकड़ों जीव-जंतुओं की अकाल मौत हो चुकी है। आलम यह है कि पाॅटरहिल में एक अस्थायी हट भी आग की जद में आ गया है।

अग्निशमन विभाग की चार छोटी-बड़ी दमकल गाड़ियां आग बुझाने में जुटी हुई हैं, लेकिन आग पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है।

आग के विकराल रूप को देखते हुए इलाके के लोग खौफजदा हैं। जंगलों की आग हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय के चैराटीन क्षेत्र के रिहायशी घरों के करीब पहुंच रही है।

आग लगने से किसानों के लाखों रुपए की कीमत के पेड़ जलकर खाक हो गए।अग्निशमन विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि आग पर काबू पाने के प्रयास किए जा रहे हैं।

बालूगंज, छोटा शिमला और माॅल रोड के अग्निशमन केंद्रों से दमकल वाहन मौके पर जुटे हुए हैं। उन्होंने कहा कि आग से 400 से 500 मीटर तक वन्य क्षेत्र खाक हो चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here