नयनादेवी विधानसभा के तहत आने वाली जुखाला पंचायत के नालग गांव के लोगों ने इस बार चुनावों का बहिष्कार करने का फैसला लिया है।

नालग गांव के लोगों मनोज कुमार, अनिल कुमार, सुनील, अंकुर, गोपालकृष्ण, सोनू कुमार, मनोज कुमार, विकास कुमार, अजय, जयपाल, मनोज व प्रेम लाल इत्यादि ने बताया कि हरिजन बस्ती जुखाला, कोटलु व नालग गांव के करीब 50 परिवारों को आज भी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं।

गांव के लिए आज तक किसी भी दल के नेताओं ने सड़क सुविधा नहीं दी, जिसकी वजह से आज भी नालग गांव को न तो एंबुलेंस जा पाती है और न ही गैस की गाड़ी।

इस गांव के लोगों को गैस के सिलेंडर भरवाने के लिए जुखाला लाने पड़ते हैं। उपरोक्त लोगों ने बताया कि करीब 15 वर्ष पूर्व जब रणधीर शर्मा पहली बार विधायक बने थे, तो उस समय जुखाला से प्राथमिक पाठशाला नालग के लिए जेसीबी लगा कर संपर्क मार्ग बनाया था, जिसके बाद तत्कालीन विधायक ने इस संपर्क मार्ग को पक्का करने तथा एक पुली के निर्माण करने की घोषणा की थी।

परंतु 15 वर्ष बीत जाने के बाद भी आज तक न तो इस सड़क को पक्का किया गया, न ही पुली का निर्माण हुआ और न ही कहीं डंगे लगे।

ग्रामीणों ने बताया कि इस संपर्क मार्ग की लंबाई जुखाला से मात्र दो किलोमीटर है, जिसे विधायक 15 सालों से नहीं बना पाए। इस सड़क के न बनने से स्कूल में पढ़ने स्कूली बच्चों, कालेज विद्यार्थियों के साथ-साथ लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

उन्होंने बताया कि यदि गांव में कोई व्यक्ति बीमार हो जाए तो उसे आज भी जुखाला तक कंधों पर उठा कर लाना पड़ता है या फिर ट्रैक्टर का सहारा लेना पड़ता है, क्योंकि इस सड़क पर मात्र ट्रैक्टर ही चल सकते हैं अन्य कोई वाहन नहीं। आज भी छोटे-छोटे नौनिहाल बिना सड़क के स्कूल आते-जाते हैं। उन्होंने बताया कि इस संपर्क मार्ग के लिए कई बार ग्रामीण विधायक और जिला प्रशासन से मिल चुके हैं, परंतु इस तरफ किसी ने कोई ध्यान नहीं दिया, जिसको लेकर ग्रामीणों ने एक बैठक कर यह निर्णय लिया कि इस बार के लोकसभा चुनावों का सभी ग्रामीण बहिष्कार करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here