लखरेहड़ में जलशक्ति विभाग का निर्माणाधीन भवन क्षतिग्रस्त।

घटिया किस्म के निर्माण का किसान सभा ने लगाया आरोप और मांगी जांच .
टिहरा मण्डी) – संधोल तहसील के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत भदेहड़ के लखरेहड़ गांव में निर्माणाधीन हिमलोक भवन का निर्माण कार्य जलशक्ति विभाग द्धारा ठेकेदार के माध्य्म से किया जा रहा है।लेकिन यह निर्माणाधीन भवन बनने से पहले ही क्षतिग्रस्त होने के कगार पर है। और इसके लिए लगाए गए डंगे और पलिंथ में दरारें पड़ गयी हैं।हिमाचल किसान सभा पंचायत कमेटी के प्रधान भाग सिंह लखरवाल सचिव प्रकाश सकलानी, लुददर सिंह,रामचन्द, तारा चन्द, भाग सिंह, हेम सिंह, बिहारी लाल, कुलदीप सिंह इत्यादि ने बताया कि इस भवन के निर्माण कार्य की गुणवत्ता सही न होने और ठेकेदार द्वारा किए जा रहे काम की विभाग द्धारा सही तरीके से निगरानी न करने के कारण ये भवन क्षतिग्रस्त हो रहा है।किसान सभा ने मांग की है कि इस कार्य की जांच की जाये और घटिया किस्म के निर्माण कार्य के लिए जिम्मेवार ठेकेदार और विभागीय कर्मचारियों के ख़िलाफ़ कार्यवाई की जाये। उन्होंने ने बताया कि इस भवन के निर्माण कार्य पर 40 लाख रुपये ख़र्च किया जाना है, जिसके चलते भवन की पलिंथ, दीवारें और रिटेनिंग दीवारें ठेकेदार ने लगा दी थी। लेकिन बरसात की पहली ही वर्षा से पलिंथ और रिटेनिंग दीवारों में बड़ी बड़ी दरारें पड़ गई हैं और फट गई है।उन्होंने विभाग को चेताया है कि वे इन दरारों को भर कर भवन का निर्माण कार्य न करे बल्कि इसे दोबारा बनवाये और घटिया किस्म के काम के लिए ठेकेदार पर जुर्माना भी लगाये। उन्होंने यह भी मांग की है कि इस मामले की गहनता से जांच करवाई जाए। इधर सहायक अभियंता जल शक्ति विभाग उपमंडल संधोल उमेश शर्मा ने कहा कि आईपीएच विभाग ने संबंधित ठेकेदार को सख्त निर्देश दिए हैं, कि सभी क्षतिग्रस्त यूनिटों को नए सिरे से तैयार करें और नाले का जो पानी का भाव है उसे भी चैनेलाइज करें ताकि भविष्य में भवन को कोई नुकसान ना हो।