मुख्यमंत्री ने कुल्लू में मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना-राज्य स्तरीय लाभार्थी संवाद कार्यक्रम की अध्यक्षता की

प्रदेश मेें उज्ज्वला योजना तथा मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत 160 करोड़ रुपये व्यय कर निःशुल्क प्रदान किए 4.72 लाख गैस कनैक्शन : जय राम ठाकुर

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज जिला कुल्लू के ढालपुर मैदान में मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना-राज्य स्तरीय लाभार्थी संवाद कार्यक्रम की अध्यक्षता की। इस अवसर पर ढालपुर मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उज्ज्वला योजना तथा मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत 160 करोड़ रुपये व्यय कर 4.72 लाख निःशुल्क गैस कनैक्शन प्रदान करने के उपरान्त हिमाचल प्रदेश देशभर में पहला ऐसा राज्य बना है जहां हर घर में एलपीजी कनैक्शन उपलब्ध है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना और उज्ज्वला योजना के अन्तर्गत गैस कनैक्शन सहित तीन रीफिल निःशुल्क उपलब्ध करवाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस वर्ष इस योजना के लिए 70 करोड़ रुपये के बजट का प्रावधान किया गया है। योजना के अन्तर्गत 2 लाख 51 हजार लाभार्थियों को एक और 40 हजार लाभार्थियों को दो अतिरिक्त निःशुल्क रीफिल प्रदान किए जा चुके हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण और उनके कल्याणार्थ अनेक कारगर कदम उठाए गए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहली बार हर महिला को 60 वर्ष की आयु से बिना किसी आय सीमा के सामाजिक सुरक्षा पेंशन दी जा रही है। प्रदेश में महिलाओं को हिमाचल पथ परिवहन निगम की बसों में किराए में 50 फीसदी की छूट दी जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में परिवहन निगम की बसों में प्रतिदिन यात्रा करने वाली लगभग एक लाख 25 हजार महिलाओं को इस योजना से लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि इस योजना पर प्रदेश सरकार लगभग 60 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष व्यय करेगी। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी, आशावर्कर सहित सभी विभागों में कार्य कर रहे पैरा वर्कर के मानदेय में प्रदेश भाजपा सरकार ने 900 रुपये से लेकर 4500 रुपये तक की बढ़ोतरी की है ताकि वे आर्थिक रूप से सशक्त हो सकें।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना तथा प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना से भी स्वयं सहायता समूहों की दो लाख से अधिक महिलाएं लाभान्वित होंगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बीपीएल परिवार की बेटियों के विवाह के लिए मुख्यमंत्री शगुन योजना के अन्तर्गत 31,000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस योजना से अभी तक प्रदेश में 6,626 बेटियों की शादी पर लगभग 20.54 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत ही बेसहारा लड़कियों के विवाह पर दिए जाने वाले अनुदान को वर्तमान प्रदेश सरकार ने 31,000 रुपये से बढ़ाकर 51,000 रुपये किया है। विधवा पुनर्विवाह योजना के अन्तर्गत भी प्रदेश सरकार 65,000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार महिलाओं को स्वावलम्बी और आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में योजनाबद्ध ढंग से कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना के अन्तर्गत महिला उद्यमियों को 35 प्रतिशत तक उपदान का प्रावधान किया गया है। प्रदेश में बेटी है अनमोल योजना के अन्तर्गत 1 लाख 36 हजार 920 लाभार्थियों को 40.86 करोड़ रुपये की सहायता, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत छः लाख से अधिक लाभार्थियों को लगभग 100 करोड़ रुपये, मदर टेरेसा असहाय मातृ संबल योजना के तहत 96,371 लाभार्थियों को 38.26 करोड़ रुपये की सहायता तथा मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के अन्तर्गत 8,255 लाभार्थियों को 39.29 करोड़ रुपये की सहायता प्रदान की गई है। उन्होंने कहा कि इसके अतिरिक्त जननी सुरक्षा योजना, जननी शिशु सुरक्षा योजना तथा अटल आशीर्वाद योजना जैसी विभिन्न महत्वकांक्षी योजनाओं से प्रदेश की लाखों महिलाओं को लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा के लिए शक्ति बटन एप तैयार कर हेल्पलाइन नम्बर की शुरूआत की गई है।
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में भाजपा सरकार मिशन रिपीट को सफल कर इतिहास बनाएगी। उन्होंने कहा कि वर्तमान में चल रहे विकास कार्यों को निरंतरता प्रदान करके प्रदेशवासियों की खुशहाली और प्रदेश की समृद्धि के लिए प्रदेश में डबल इंजन सरकार आवश्यक है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने प्रदेश के विभिन्न जिलों से वर्चुअल माध्यम से जुड़ी मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना की लाभार्थी महिलाओं से संवाद किया। बिलासपुर जिला से किन्जल, चम्बा से उषा देवी, हमीरपुर से कृष्णा कुमारी, कांगड़ा से अंजली, किन्नौर से किरण कुमारी, कुल्लू से निर्मला देवी, लाहौल स्पीति से दीपिका, मंडी से माया, शिमला से कमला देवी, सिरमौर से बुशरा, सोलन से वीना शर्मा तथा ऊना जिला से मोनिका सहित अन्य महिला लाभार्थियों ने इस योजना तथा महिला सशक्तिकरण के लिए प्रदेश सरकार द्वारा आरम्भ की गई अन्य योजनाओं के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।
मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम के उपरान्त ढालपुर मैदान में विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं एवं कार्यक्रम पर आधारित विभिन्न विभागों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया।
शिक्षा, भाषा कला एवं संस्कृति मंत्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने अपने संबोधन में कहा कि प्रदेश सरकार की लाभकारी योजनाओं से प्रदेशवासियों की खुशहाली सुनिश्चित हुई है और देश में एक आदर्श पहाड़ी राज्य के रूप में हिमाचल की पहचान स्थापित हुई है। उन्होंने कहा कि आने वाले विधानसभा चुनावों में भी प्रदेश की जनता भाजपा सरकार के प्रति अपना समर्थन और विश्वास जताकर मिशन रिपीट को सफल बनाएगी।
कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से जुड़े खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री राजेंद्र गर्ग ने कहा कि प्रदेश में उपभोक्ताओं को उचित मूल्य की दुकानों से सस्ता राशन उपलब्ध करवाने के साथ ही खाद्यान्नों की गुणवत्ता भी सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना संकट के समय खाद्यान्नों की कमी नहीं आने दी गई और प्रदेशवासियों को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना से भी लाभान्वित किया गया।
प्रधान सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति आर.डी. नज़ीम ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री तथा कार्यक्रम में उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत किया और विभाग की कल्याणकारी गतिविधियों की विस्तृत जानकारी दी।
निदेशक खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति के.सी. शर्मा ने मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर सभी जिलों से संबंधित मंत्री एवं विधायकों ने वर्चुअल माध्यम से कार्यक्रम में भाग लिया।
इस अवसर पर कुल्लू में विधायक किशोरी लाल तथा सुरेन्द्र शौरी, पूर्व सांसद महेश्वर सिंह, ब्रिगेडियर खुशाल सिंह ठाकुर, एचपीएमसी के उपाध्यक्ष राम सिंह, जिला परिषद के अध्यक्ष पंकज परमार, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष धनेश्वरी ठाकुर, हिमाचल प्रदेश कृषि विपणन बोर्ड के सलाहकार रमेश शर्मा, जिला भाजपा अध्यक्ष भीमसेन शर्मा, उपायुक्त आशुतोष गर्ग, पुलिस अधीक्षक गुरदेव चंद शर्मा, नगर परिषद, नगर पंचायत, पंचायत समिति तथा ग्राम पंचायतों के प्रतिनिधि तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।