Uttar Pradesh: ठगी के लिए फर्जी BJP नेता और IAS अधिकारी बने चाचा-भतीजा, पूरा मामला जानकर चौंक उठेंगे आप।

शहर में ठगी के घटनाएं दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही हैं. इंदिरापुरम थाना में ऐसी ही घटना को अंजाम दे रहे चाचा-भतीजे के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है. दोनों सोशल मीडिया पर बीजेपी नेता और आईएएस अधिकारी की फर्जी आईडी बनाकर लोगों को गुमराह कर ठगी की घटनाओं को अंजाम देते थे. थाने में दोनों के खिलाफ धोखाधड़ी, जालसाजी और ठगी का मुकदमा दर्ज वह है. फर्जी आईडी बनाकर कर रहे थे छवि खराब

लखनऊ के इंदिरा भवन में अल्पसंख्यक आयोग की सदस्य अनीता जैन ने बताया कि इंदिरापुरम के रहने वाले हेमंत और किरण पाल जाटव सोशल मीडिया पर बीजेपी संगठन मंत्री कर्मवीर सिंह के फर्जी आईडी बनाकर उनकी छवि को खराब कर रही हैं. दोनों फेसबुक पर फर्जी आईडी बनाकर लोगों को अपने जाल में फंसाते थे और नंबर मिलने के बाद उनसे मैसेंजर पर बात करते थे.

नेताओं से अच्छी बातचीत होने का देते थे झांसा

दोनों आरोपी खुद को बीजेपी नेता और आईएएस अधिकारी बताकर लोगों को अपने जाल में फंसाते थे. वो लोगों को नेताओं से अच्छी बातचीत होने की बात कहकर बड़े से बड़े काम निकलवाने की बात कहते थे. इसके लिए वह मोटी रकम लेते थे. अनीता जैन ने सह संगठन मंत्री के कहने पर दोनों ठगों से बातचीत की. उन्होंने लखनऊ में एक काम कराने के लिए बोला, जिसके लिए आरोपियों ने 20 लाख रुपए की मांग की.

कुछ दिनों पहले ही की थी 20 लाख रुपए की मांग

ठगों ने अनीता जैन से 1200 रुपए ट्रांसफर करने के लिए बोला. ठगों के कहने पर उन्होंने रुपए ट्रांसफर कर दिए, जिसके बाद साइबर सेल और सर्विलेंस से संपर्क कर दोनों आरोपियों की लोकेशन ट्रेस कराई गई. उनकी लोकेशन इंदिरापुरम के पास आई. आरोपी हेमंत आईएएस अधिकारी के नाम से फर्जी आईडी बनाकर लोगों से ठगी करता था. उसने कुछ दिनों पहले कि व्हाट्सएप पर 20 लाख रुपए की मांग की थी.

पुलिस ने कही ये बात

क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि हेमंत चौधरी और चरणपाल जाटव के खिलाफ शिकायत दर्ज कर ली गई है. साइबर टीम मामले की जांच कर रही है. पुलिस रिपोर्ट के आधार पर आगे की कार्रवाई कर रही है.