हिमाचल दिवस पर हमीरपुर में विक्रम सिंह ने फहराया राष्ट्रीय ध्वज

हमीरपुर 15 अप्रैल। 75वां हिमाचल दिवस शुक्रवार को हमीरपुर में भी हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (ब्वायज) के मैदान में आयोजित जिला स्तरीय समारोह में उद्योग, परिवहन, श्रम एवं रोजगार मंत्री विक्रम सिंह ने राष्ट्रीय ध्वज फहराया तथा भव्य परेड की सलामी ली। इस भव्य परेड में हिमाचल प्रदेश पुलिस और होमगार्ड के अलावा एनसीसी कैडेट्स, हेल्थ वर्कर्स और विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों की टुकडिय़ों ने भी शानदार मार्च पास्ट किया। कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का प्रदेशवासियों के नाम संदेश का प्रसारण एलईडी के माध्यम से दिखाया गया।
इस अवसर पर सभी जिलावासियों को बधाई देते हुए विक्रम सिंह ने कहा कि देश की आजादी के ठीक 8 माह बाद 15 अपै्रल 1948 को हमारे खूबसूरत प्रदेश हिमाचल का गठन किया गया था। उन्होंने कहा कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों और संसाधनों की कमी के कारण राज्य को विकास की राह पर आगे ले जाना एक बड़ी चुनौती थी। लेकिन, लेकिन प्रदेश के मेहनती और ईमानदार लोगों ने इन चुनौतियों का सामना करते हुए हिमाचल को एक खुशहाल राज्य बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा जारी विशेष औद्योगिक पैकेज हिमाचल के औद्योगिक विकास में मीलपत्थर साबित हुआ है। उन्हीं के द्वारा शुरू की गई प्रधानमंत्री ग्राम सडक़ योजना के कारण प्रदेश के गांव-गांव तक सडक़ों का जाल बिछा है। विक्रम सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास’ के मूल मंत्र को आत्मसात् हिमाचल को विकास के शिखर की ओर ले जाने का प्रयास किया है।
प्रदेश सरकार ने अपनी पहली ही मंत्रिमंडल की बैठक में बिना किसी आय सीमा के वृद्धावस्था पेंशन प्राप्त करने की आयु 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष की। इसे अब घटाकर 60 वर्ष कर दिया गया है। इस फ़ैसले से इसी साल लगभग एक लाख और लोगों को पेंशन का लाभ मिलेगा। चार वर्षों के दौरान प्रदेश के 2 लाख 21 हज़ार लोगों को पेंशन स्वीकृत की गई है। प्रदेश सरकार ने जनमंच के रूप में एक अनूठी पहल की है। अब तक 244 स्थानों पर आयोजित कुल 25 जनमंचों में प्राप्त 54 हज़ार 565 समस्याओं में से अधिकांश का निपटारा किया जा चुका है। मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हैल्पलाइन-1100 के माध्यम से अब तक लगभग 3 लाख 55 हज़ार शिकायतें प्राप्त हुई, जिनमें से 3 लाख 41 हजार का निपटारा किया जा चुका है।
मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अंतर्गत प्रदेश के 3 लाख 25 हज़ार परिवारों तथा प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के अंतर्गत 1 लाख 37 हज़ार परिवारों को नि:शुल्क गैस कनेक्शन सहित तीन सिलेंडर नि:शुल्क उपलब्ध करवाए जा रहे हैं
मुख्यमंत्री हिमाचल हेल्थकेयर योजना-हिमकेयर के तहत अभी तक लगभग 5 लाख 40 हज़ार परिवार पंजीकृत किए जा चुके हैं तथा 2 लाख 40 हज़ार लोगों के मुफ्त ईलाज के लिए 218 करोड़ रूपये खर्च किए गए हैं।
मुख्यमंत्री सहारा योजना के लगभग 18 हज़ार लाभार्थियों को उपचार के लिए 60 करोड़ 50 हज़ार रुपये प्रदान किए गए। सरकार युवाओं को रोजग़ार के अधिक से अधिक अवसर उपलब्ध करवाने का प्रयास कर रही है। इस दिशा में मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना बहुत प्रभावशाली साबित हुई है। इसके अंतर्गत युवाओं को व्यापारिक गतिविधियां आरंभ करने के लिए एक करोड़ रुपये तक की मशीनरी व संयंत्र में निवेश करने पर 25 प्रतिशत उपदान दिया जा रहा है। इस साल से महिलाओं को मिलने वाले उपदान को 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 35 प्रतिशत तथा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं दिव्यांगों के लिए 25 प्रतिशत से बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दिया गया है। योजना के अंतर्गत लगभग 624 करोड़ रुपये के निवेश की 3 हज़ार 758 इकाइयां स्थापित की गईं हैं, जिनमें लगभग 10 हज़ार से अधिक युवाओं को रोजग़ार के अवसर प्राप्त हुए हैं। प्रदेश में लगभग 50 हज़ार करोड़ रुपये के निवेश वाली औद्योगिक परियोजनाओं को धरातल पर उतारा गया है। व्यापार में सुगमता में प्रदेश की रैंकिंग 16वें स्थान से 7वें स्थान पर पहुंच गई है। प्रदेश सरकार ने बिजली उपभोक्ताओं को बड़ी राहत प्रदान करते हुए 60 यूनिट तक बिजली मुफ़्त करने और 61 से 125 यूनिट तक एक रुपये प्रति यूनिट की दर से बिजली उपलब्ध करवाने का फैसला लिया है। किसानों के लिए बिजली की दर 30 पैसे प्रति यूनिट की गई है। इस फैसले से लगभग 11 लाख घरेलू बिजली उपभोक्ता लाभान्वित होंगे।
मुख्यमंत्री आवास योजना के अंतर्गत 6 हज़ार 356 लाभार्थियों को 1 लाख 50 हज़ार रुपये प्रति परिवार की दर से आर्थिक सहायता प्रदान की है। प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के अंतर्गत पिछले चार वर्षांे में लगभग 7100 आवास स्वीकृत किए गए हैं तथा प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के अंतर्गत 7 हज़ार 404 घरों का निर्माण किया गया है।
समारोह के दौरान उद्योग मंत्री ने स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनों को सम्मानित भी किया। इस अवसर पर विभिन्न शिक्षण संस्थानों के विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। मुख्य अतिथि ने परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के प्रतिभागियों को भी पुरस्कृत किया।
जिला स्तरीय समारोह में भोरंज की विधायक एवं उप मुख्य सचेतक कमलेश कुमारी, एचआरटीसी उपाध्यक्ष विजय अग्रिहोत्री, भवन निर्माण एवं सन्निर्माण कामगार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष डॉ. राकेश शर्मा बबली, डीसी देबश्वेता बनिक, एसपी डॉ. आकृति शर्मा, भाजपा के जिला महामंत्री हरीश शर्मा, आदर्शकांत, अन्य पदाधिकारी, जिला परिषद उपाध्यक्ष नरेश कुमार, नगर परिषद के पदाधिकारी और अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित थे।
-0-