जन विश्वास के प्रतीक बनकर उभरे युवा आशीष।

महिला आशीर्वाद सम्मेलन में अभूतपूर्व भीड़ जुटाकर फिर दिखाया अपना दम
हमीरपुर 5 जून
हमीरपुर में सेवा साधना के नाम पर शुरू हुई नई सियासत ने जहां एक ओर महिलाओं, पूर्व सैनिकों, समाज में उत्कृष्ट कार्य करने वालों को सम्मानित करने का सिलसिला नेताओं द्वारा निरंतर जारी है। वहीं यह सिलसिला समाज के कई वर्गों को सम्मान दिलाने के साथ-साथ आपसी भाईचारे को जोडऩे में भी कारगर भूमिका निभा रहा है। हालांकि सेवा साधना की हर सीढ़ी मकसद व मतलब सत्ता हासिल करने का रहता है। लेकिन इस सिलसिले ने हमीरपुर के कई विधानसभा क्षेत्रों में क्षमतावान ओजस्वी युवा चेहरों को उभारने की अहम भूमिका निभाई है। इसी कड़ी में हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनावी दंगल के लिए ताल ठोक चुके युवा नेता की रविवार 5 जून को हमीरपुर के बसंत रिजॉर्ट में मातृशक्ति आशीर्वाद महोत्सव के नाम से हुआ भव्य आयोजन कई मायनों में सियासी पार्टियों को नई चुनौती पेश कर गया है। इस आयोजन में महिलाओं की उमड़ी अप्रत्याशित भीड़ ने जहां एक ओर आशीष शर्मा को हमीरपुर में भरोसेमंद युवा नेता के तौर पर स्थापित किया है वहीं हमीरपुर में दोनों दलों में टिकटों के लिए मची मारामारी में टिकटार्थियों की फौज के साथ-साथ सियासी पार्टियों को भी आईना दिखाया है। इस सम्मेलन में महिलाओं की भीड़ आई थी या लाई गई थी। यह दीगर है लेकिन इतनी बड़ी संख्या में महिलाओं की सम्मेलन में हाजिरी आशीष शर्मा के जनविश्वास की प्रतीक बनी है। विंहगम बसंत रिजॉर्ट में इस सम्मेलन में आलम यह था कि आशीष शर्मा की प्रबंधन टीम के भीड़ को देखकर होश फाख्ता रहे। दोपहर होते-होते सम्मेलन में प्रबंधन में लगी टीम खुद को बेबस पा रही थी। क्योंकि बसंत रिजॉर्ट के मैदान के साथ-साथ अंदर-बाहर तिल धरने की जगह बाकि नहीं बची थी। जिसके चलते मीडिया की फौज व अन्य कई गणमान्य लोगों को खड़े-खड़े ही सम्मेलन में भाग लेना पड़ा। अणु कलां से उखली, नारा से बफड़ीं, पंदेहड़ तक हमीरपुर की हर पंचायत से इस सम्मेलन में महिलाओं की भीड़ अप्रत्याशित रूप से उमड़ी हुई थी। हर सिर पर पीली टोपी व गले में मैं आशीष हूं की इबारत से छपे अंग वस्त्र इस आयोजन को किसी बड़ी सियासी पार्टी की तरह भव्य बना रही थी। सबसे बड़ी बात यह रही कि समाज सेवा के साथ-साथ आशीष शर्मा ने अपने हर आयोजन को धार्मिक रंग के रंग में रंगा है। आशीष शर्मा भगवान भोले नाथ पर अटूट विश्वास व आगाध श्रद्धा रखते हैं। कुल मिलाकर सफल माने-जाने वाले महिला आशीर्वाद सम्मेलन ने आशीष शर्मा को जी भर कर आशीर्वाद दिया। 200 से ज्यादा महिला मंडलों की महिलाओं ने इस सम्मेलन में अपनी हाजिरी सुनिश्चित की जो कि आशीष शर्मा के भरोसे व जनता में बढ़ रही पकड़ को बताने के लिए काफी है। इस सम्मेलन के मुख्यातिथि प्रख्यात व्यवसायी व समाजसेवी प्रकाश चंद शर्मा रहे। इस सफल सम्मेलन में उमड़ी भीड़ अगर वोटों में तबदील होती है तो आशीष शर्मा को सत्ता की सीढ़ी तक पहुंचने से कोई भी नहीं रोक पाएगा। यह दीगर है कि जनता में आशीष शर्मा की बढ़ती पैठ व बढ़ते कद को लेकर कोई सियासी दल उन्हें अपना टिकटार्थी बना डाले अन्यथा आशीष शर्मा आजाद चुनाव लडऩे का ऐलान कर चुके हैं।