जयराम, भाजपा नेताओं को लगी झूठ बोलने की लत : मुख्यमंत्री

देहरा। मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने देहरा विधानसभा क्षेत्र में धार, भटेहड़, मसरूर, धंगड़, बिलासपुर, सकरी, लोअर सुनेहत, सुनेहत, दयाल, धजाग तथा हार में कांग्रेस पार्टी की प्रत्याशी और अपनी धर्मपत्नी कमलेश ठाकुर के पक्ष में प्रचार किया और नुक्कड़ सभाओं में भाग लिया। भाजपा पर हमला बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर और अन्य भाजपा नेताओं को झूठ बोलने की लत लग गई है। जयराम ठाकुर दिन में सपने देख रहे हैं लेकिन भाजपा झूठ बोलकर सत्ता में नहीं आने वाली है। उन्होंने कहा कि पहले जयराम ठाकुर चार जून को हिमाचल प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने का दावा करते रहे लेकिन उनकी ये बात झूठी साबित हुई है और अब भाजपा की सरकार बनने की नई-नई तारीख देकर जनता के बीच अपना मज़ाक़ बनवा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व विधायक होशियार सिंह देहरा की जनता को बताएं कि उन्होंने विधायक पद से इस्तीफ़ा क्यों दिया और अब दोबारा विधायक बनने के लिए उप चुनाव क्यों लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा नेताओं और होशियार सिंह यह उप चुनाव जनता पर थोपा है। उन्होंने कहा कि विधानसभा में कांग्रेस के 38 विधायक हैं और भाजपा किसी भी सूरत में सत्ता में नहीं आने वाली है। उन्होंने कहा कि होशियार सिंह ने अपनी विधायकी भाजपा को भेजी है और दबाव में आकर विधायक पद से इस्तीफ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि पूर्व विधायक केवल अपने होटल-रिज़ॉर्ट चिंता करते थे और और जनता के काम लेकर कभी भी उनके पास नहीं आते थे।
ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि ये देहरा का भाग्य ही होगा कि होशियार सिंह ने विधायक पद से इस्तीफ़ा दिया और अब कांग्रेस पार्टी ने उनकी धर्मपत्नी को यहाँ से चुनाव मैदान में उतारा गया है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गाँधी प्यारी बहना सुख सम्मान निधि योजना के तहत देहरा विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत लगभग एक हजार महिलाओं को पंद्रह सौ रुपये प्रतिमाह पेंशन की दो किश्तें प्राप्त हो चुकी है तथा बचे हुए फ़ॉर्म की जांच का कार्य जारी है। जाँच पूरी होने के बाद पात्र महिलाओं को उनके खाते में उनके पेंशन के रूप में प्रतिमाह 1500 रुपए प्रदान किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि देहरा के विकास में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी और यहां लोगों को सड़क, बिजली और पानी की सुविधा प्रदान करने के लिए भरपूर पैसा उपलब्ध करवाया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले डेढ़ वर्ष के कार्यकाल में गांवों की आर्थिकी को मज़बूत करने के लिए अनेकों योजनाएं शुरू की है। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती से उत्पन्न गेहूं को 40 रुपए प्रति किलो और मक्की को 30 रुपए प्रति किलो की दर से ख़रीदा जाएगा। इसके साथ ही गाय का दूध 45 रुपये प्रति लीटर और भैंस का दूध 55 रुपये प्रति लीटर की दर से ख़रीदा जा रहा है। उन्होंने कहा कि जिला कांगड़ा के ढगवार में 250 करोड़ रुपए की लागत से मिल्क प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की जा रही है, ताकि किसानों से दूध की ख़रीद कर उनकी आर्थिकी को सुदृढ़ किया जा सके। उन्होंने कहा कि इंदौरा में 300 करोड़ रुपये की लागत से पेप्सी की फै़क्टरी लगाई जा रही है, जहाँ पर लोगों को रोज़गार मिलेगा। इसके अतिरिक्त 650 करोड़ रुपये की लागत से दोहरा विधानसभा क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर के जू का निर्माण किया जा रहा है, जिसमें 2 हज़ार लोगों को रोज़गार के अवसर प्राप्त होंगे। साथ ही पौंग डैम में जल क्रीड़ाओं को शुरू करने के लिए राज्य सरकार ने एक सौ करोड़ रुपए धनराशि आवंटित की है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार 70 वर्ष से अधिक आयु के बुज़ुर्गों को 25 लाख रुपये तक फ़्री इलाज की सुविधा प्रदान की जा रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा से कोई भी मदद न मिलने के बावजूद राज्य सरकार ने पिछले साल आई आपदा में प्रभावित हुए 22 हजार परिवारों को फिर से बसाया है और उनके लिए मुआवज़ा राशि में ऐतिहासिक बढ़ोतरी की है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त घरों को नुकसान होने पर मुआवज़ा राशि बढ़ाकर 7 लाख रुपए किया है तथा धार पंचायत में 21 घरों को फिर से बसाने के लिए राज्य सरकार ने तीन-तीन लाख रुपए की पहली किश्त प्रदान कर दी है। उन्होंने कहा कि 27 आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त घरों की मुरम्मत के लिए 5-5 हजार रुपए की फ़ौरी राहत के साथ-साथ 65-65 हजार रुपए भी प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि धंगड़ ग्राम पंचायत में आपदा प्रभावित 17 परिवारों को मुआवज़े के रूप में राज्य सरकार ने 16.45 लाख रुपए वितरित किए गए हैं। इसके साथ ही हरिपुर में 32 मकान पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए, जिसकी पहली किश्त के तौर पर 3-3 लाख रुपए के रूप में 96 लाख रुपए दिए गए हैं। वहीं, आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त 104 मकानों की मुरम्मत के लिए राज्य सरकार ने लगभग 98 लाख रुपए जारी किए हैं।  धार ग्राम पंचायत की प्रधान इंदिरा ने मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू की नीतियों में आस्था व्यक्त करते हुए कांग्रेस पार्टी का दामन थाम लिया।
इस अवसर पर कृषि मंत्री चौधरी चन्द्र कुमार, विधायक केवल सिंह पठानिया, मलेंद्र राजन, नीरज नैय्यर, हिमाचल प्रदेश भवन एवं सन्निमार्ण कामगार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष नरदेव सिंह कंवर, प्रदेश कांग्रेस के कोषाध्यक्ष डॉक्टर राजेश शर्मा, जिला परिषद सदस्य बीना देवी, पंचायत समिति की सदस्य सुनीता देवी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।